स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

स्पेशल 26 देखकर सीबीआई अफसर बनकर शुगर मिल में छापा मारने पहुंचे थे 21, असली पुलिस देख रह गए 16

Jai Prakash

Publish: Jun 28, 2019 11:25 AM | Updated: Jun 28, 2019 11:25 AM

Sambhal

-छापा मारने पहुंचे 21 युवकों की टीम पहुंची।

-लग्जरी गाड़ियों से छापा मारने पहुंचे थे।

-आईडिया उनके दिमाग में फिल्म स्पेशल 26 को देखकर आया था।

संभल: गुरूवार जनपद के असमोली थाना क्षेत्र में एक शुगर मिल पर फर्जी विजलेंस अफसर बनकर छापा मारने पहुंचे 21 युवकों की टीम पहुंची। लेकिन शुगर मिल कर्मियों को शक होने पर उन्हें पकड़ लिया गया, जिसमें पांच भागने में सफल हो गए, जबकि 21 को दबोच लिया गया। ये लोग बाकायदा लग्जरी गाड़ियों से छापा मारने पहुंचे थे। फ़िलहाल पुलिस ने गाड़ियों समेत लेकर इनसे पूछताछ शुरू कर दी है। इन आरोपियों ने बताया भी कि इस तरह का आईडिया उनके दिमाग में फिल्म स्पेशल 26 को देखकर आया था।

Video: फार्म हाउस में तमंचों से जमकर हुई धांय-धांय, अब दौड़ लगा रही पुलिस

लग्जरी गाड़ी से पहुंचे थे

पुलिस के मुताबिक तीन लग्जरी गाड़ियों में सवार 21 लोग गुरुवार की दोपहर को डीएसएम शुगर मिल असमोली में पहुंचे। इन लोगों ने खुद को दिल्ली विजिलेंस का अधिकारी और कर्मचारी बताया और तुरंत जांच-पड़ताल शुरू कर दी। मिल के पीछे के गेट से शुगर मिल में पहुंच इन लोगों ने एल्कोहल भरे ट्रकों की वीडियो बनाई और एल्होहल का सैंपल लेने लगे। इस पर वहां मौजूद लोगों ने वीडियो बनाने से मना किया क्योंकि इससे आग लग सकती थी। इस पर खुद को अफसर बताने वाले युवकों ने मिल कर्मचारियों को धमकाना शुरू कर दिया। 15 से 18 साल के इन कथित अफसरों के बात-व्यवहार से मिलकर्मियों को शक हुआ तो उन्होंने उनसे पूछताछ शुरू कर दी।सवालों की बौछार से छापा मारने आए युवक फंसने लगे तो मिल कर्मचारियों ने सभी को घेरना शुरु कर दिया।

VIDEO: मेरठ में 'लैंड जेहाद' के विरोध में इस हिन्दू संगठन ने किया जोरदार प्रदर्शन

पांच भाग गए

इस दौरान मौका पाकर पांच फर्जी अफसर भाग गये जबकि 16 फर्जी को मिल कर्मियों ने पकड़कर बैठा लिया। सूचना मिलने पर असमोली थाने की पुलिस शुगर मिल पहुंच गई और सभी फर्जी अधिकारियों को थाने ले आई। पूछताछ में एक आरोपी ने स्वीकार किया कि स्पेशल 26 की तरह उन्होंने भी टीम बनाया था और इसके लिए विलिसेंस में नौकरी के नाम पर भर्ती की गई थी। जबकि कम उम्र के कुछ युवाओं ने बताया कि उन्हें यहां फील्ड ट्रेनिंग के नाम पर लाया गया था।

VIDEO: भारतीय टीम में चुना गया यूपी का एक और तेज गेंदबाद, 140 की स्पीड से फेंकता है बॉल, जल्द जाएगा इंग्लैंड

ये हुए गिरफ्तार

थानाध्यक्ष राकेश कुमार के अनुसार जिन लोगों को हिरासत में लिया गया है, उसमें रमेश कुमार निवासी दिलशाद गार्डन दिल्ली, पुष्पेंद्र सिंह निवासी ग्राम लसकरपुर शाहजहांपुर, धर्मेंद्र कुमार, हरभजन निवासी राहुल विहार गाजियाबाद, लोकेश कुमार निवासी पटेल नगर गाजियाबाद, गंगा सहाय निवासी गंगा विहार दिल्ली, देवेंद्र कुमार निवासी मोहल्ला कुरैशी अमरोहा, प्रमोद शुक्ल निवासी मझोली थाना मझोला मुरादाबाद, जितेंद्र निवासी वाल्मीकि कुंज पटेल नगर गाजियाबाद, कमल कुमार अंबेडकर नगर मझोला मुरादाबाद, राजकुमार पंडित नगला कटघर मुरादाबाद, अंकुर सिद्धार्थ विहार विजय नगर गाजियाबाद शामिल हैं। ये लोग अमरोहा से चालक सरदार अहमद पुत्र मुनीम अहमद लकड़ा चुंगी और चालक नासिर पुत्र अब्दुल हमीद सराय मुहल्ला नल अमरोहा से वाहन बुक कराकर सम्भल में आए थे।

'रेड कार्ड बनेगा लड़कियों के लिए हथियार', पुलिस ने शुरू की नई मुहिम

ऐसे हुआ शक

वहीँ उधर चीनी मिल के अध्यक्ष सुभाष पांडेय ने कहा कि दो वाहनों में यह लोग आए थे और सीधे डिस्टलरी में चले गए जहां जाने पर रोक है। ऐसे में इन पर शक हुआ और पूछताछ में इनके फर्जी अफसर होने की संभावना लगी। इसी आधार पर पुलिस को सूचना दी गई।