स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

राजद नेता की हत्या के बाद लालू के निशाने पर सुशासन बाबू,लिखा-शर्म है कि उसे आती नहीं, कहता है क़ानून का राज है

Prateek Saini

Publish: Jan 24, 2019 15:56 PM | Updated: Jan 24, 2019 15:56 PM

Samastipur

राजद नेता की हत्या के बाद राज्य में सीयासी परा गरमा गया है...

 

(समस्तीपुर): बिहार में बदमाश बेलगाम और बेखौफ हो गए है। आलम यह है कि बदमाश दिनदहाडे लोगों को मौत के घाट उतार रहे है। गुरूवार सुबह भी ऐसा ही हुआ। समस्तीपुर में राजद नेता रघुवर राय की गोली मारकर हत्या कर दी गई। इस वारदात के बाद बिहार में सुशासन का दावा करने वाले नीतीश कुमार लोगों के निशाने पर आ गए। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने नीतीश कुमार को आडे हाथ लिया। नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए लालू की ओर से लिखा गया कि शर्म है कि उसे आती नहीं, कहता है क़ानून का राज है।


चारा घोटाला मामले में सजायाफ्ता राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव खराब सेहत के चलते रांची के रिम्स अस्पताल में भर्ती है। लालू यादव के निर्देशानुसार उनकी टीम की ओर से उनका ट्वीटर अकाउंट चलाया जा रहा है। राजद नेता की हत्या से विचलित लालू प्रसाद यादव की ओर से लिखा गया कि शर्म है कि उसे आती नहीं, कहता है क़ानून का राज है। कीड़े-मकोड़े की तरह बिहार में लोग मारे जा रहे है और वो वही कैसेट बजाये जा रहा है।


सत्ता संरक्षित गुंडों को संभाले नीतीश कुमार—तेजस्वी

लालू प्रसाद यादव से पहले उनके बेटे तेजस्वी यादव ने भी नीतीश कुमार को घेरा। बिहार में मार—काट की घटनाओं को अंजाम देने वाले अपराधियों को सत्ता संरक्षित गुंडा बताते हुए उन्होंने नीतीश सरकार पर हमला किया। तेजस्वी यादव ने ट्वीट करते हुए कहा कि 'नीतीश कुमार जी, सत्ता संरक्षित गुंडों को संभालिए। किस बात और किस काम के गृहमंत्री बने कुर्सी से चिपक कर बैठे हैं? तेजस्वी आगे लिखते हैं कि आपके द्वारा संरक्षित अपराधी रालोसपा और राजद के नेताओं की चुन-चुन कर हत्या कर रहे हैं, लेकिन आज तक आपकी जुबान का ताला नहीं खुला है। घोर निंदनीय..'

 

 

बता दें कि गुरूवार सुबह अपराधियों ने राजद के प्रदेश महासचिव सह पूर्व जिला परिषद उपाध्यक्ष रघुवर राय की गोली मारकर हत्या कर दी। वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी वहां से फरार हो गए। लहूलूहान रघुवर राय को परिजन इलाज के लिए दरभंगा ले गए, लेकिन रास्ते में ही उन्होंने दम तोड़ दिया। घटना से आक्रोशित ग्रामीणों ने रास्ता जाम कर विरोध प्रदर्शन किया।