स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

टॉपर घोटालाः पांच घंटे में खंगाली गई टॉपर गणेश की कुंडली

Shribabu Gupta

Publish: Jun 04, 2017 15:09 PM | Updated: Jun 04, 2017 15:09 PM

Samastipur

इंटर के आर्ट्स टॉपर गणेश कुमार की उम्र में गड़बड़ घोटाले की भनक बोर्ड अधिकारियों को लगी तो इसके बाद उसकी कुंडली खंगालने में बोर्ड कर्मी जुट गए...

पटना। इंटर के आर्ट्स टॉपर गणेश कुमार की उम्र में गड़बड़ घोटाले की भनक बोर्ड अधिकारियों को लगी तो इसके बाद उसकी कुंडली खंगालने में बोर्ड कर्मी जुट गए। पांच घंटे में 350 से अधिक गणेश नाम के परीक्षार्थियों की सूची निकाली गई।

जांच के किसी तरह की चूक न हो इसके लिए 1990 से 2017 तक के इंटर और मैट्रिक परीक्षा में शामिल एक-एक गणेश की जानकारी जुटाई गई। इसमें 1990 के एक परीक्षार्थी गणेश राम और टॉपर गणेश कुमार के पिता का नाम शंकरनाथ राम कॉमन मिला। गिरिडीह के सीआरएसआर हाईस्कूल, सरिया की कुंडली खंगाली गई। इससे शक पुख्ता रूप लेने लगा। इसके बाद बोर्ड अधिकारी जांच की सूचना दिए बगैर गिरिडीह में बिताए दिनों की जानकारी गणेश से लेने लगे।

सम्मानित करने के बहाने बोर्ड बुलाया गया गणेश
बोर्ड अधिकारियों ने गणेश को सुबह 10 बजे के आसपास फोन कर बताया कि बोर्ड को आपकी योग्यता पर शक नहीं है। शुक्रवार की शाम अध्यक्ष आपको सम्मानित करना चाहते हैं। शाम तक आ जाइए। गणेश ने शुरू में हामी नहीं भरी। कुछ देर के बाद फोन कर संबंध्तिा अधिकारी को बताया कि वह शाम पांच बजे तक पहुंच जाएगा।

कार्यालय पहुंचने के बाद उसे जांच की भनक नहीं लगने दी गई। अध्यक्ष समेत वरीय अधिकारियों ने पहले उसे सफलता की बधाई दी। उसे जलपान कराया गया। 15-20 मिनट के बाद 1990 में मैट्रिक परीक्षा से संबंधित प्रश्र पूछे गए। शुरूआत में गणेश ने साफ इन्कार कर दिया। जब उसे उस दौरान के सर्टिफिकेट दिखा गया तो होश उड़ गए।

कार्रवाई नहीं करने के आश्वासन पर उगले राज
बोर्ड अधिकारियों ने गणेश को पूरी तरह से आश्वस्त किया कि इस संबंध में उसके ऊपर कोई कार्रवाई नहीं होगी। उसकी योग्यता पर किसी को शक नहीं है। इसके बाद गणेश ने उम्र छिपाने की पूरी कहानी बयान कर दी। पूरी तरह से जानकारी पुख्ता होने पर इसकी सूचना 6.30 बजे के आसपास कोतवाली थाने को दी गई।