स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

उत्तर प्रदेश का पहला ISO प्रमाणित जिला बना सहारनपुर

shivmani tyagi

Publish: Sep 10, 2019 19:05 PM | Updated: Sep 10, 2019 19:05 PM

Saharanpur

कलेक्ट्रेट विकास भवन और तहसील को मिला आईएसओ 9001: 2015 का प्रमाण पत्र

सहारनपुर। स्मार्ट सिटी सहारनपुर के कलेक्ट्रेट कार्यालय समेत विकास भवन और तहसील सदर को ISO 9001:2015 से प्रमाणित किया गया है। यह उत्तर प्रदेश का पहला ऐसा जिला बन गया है जहां के तीन प्रमुख कार्यालयों को ISO सर्टिफाइड मिला है। इस कामयाबी पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेशभर के जिलों के कार्यालयों को ISO मानकों के अनुरूप बनाने के निर्देश दिए हैं।
बीते वर्ष सहारनपुर पुलिस लाइन को ISO प्रमाण पत्र मिला था। उस समय तत्कालीन एसएसपी बबलू कुमार ने अपनी आईआईटियन पत्नी के सहयोग से पूरे पुलिस लाइन की तस्वीर ही बदल दी थी। पुलिस लाइन के साथ-साथ सहारनपुर के मॉडल थाने गागलहेड़ी को भी ISO प्रमाण पत्र मिला था।
अब सहारनपुर जिलाधिकारी आलोक कुमार ने सहारनपुर कलेक्ट्रेट सदर तहसील और विकास भवन को ISO 9001:2015 के मानकों के अनुरूप विकसित कराया और तीनों प्रमुख कार्यालयों के भवनों का जीर्णोद्धार कर इन्हें मानकों के अनुरूप डिजाइन कराया गया। इसके बाद ISO 9001: 2015 की टीम ने सहारनपुर के इन तीनों प्रमुख कार्यालयों का निरीक्षण किया। तीनों कार्यालय सिस्टम, प्रोसेस, इंफ्रास्ट्रक्चर और टेक्नोलॉजी समेत अन्य कई बिंदुओं पर खरे उतरे।
इसके लिए गुरु ग्राम स्थित एक संस्था इशिता consulting को यह कार्य सौंपा गया था। करीब 2 महीने तक तीनों कार्यालयों में आमूलचूल परिवर्तन किए गए सभी कार्यालयों में कार्य को आसान बनाने के लिए फाइल और डॉक्युमेंट मैनेजमेंट सिस्टम को प्रभावी बनाया गया। कार्यालय आने वाले फरियादियों को किसी तरह की परेशानी ना हो इसके लिए अलग-अलग सूचना बोर्ड बनाए गए।
इस कार्य के लिए फरियादियों से और नगरवासियों से भी सुझाव प्राप्त किए गए। सभी कर्मचारियों को पहचान पत्र जारी किए गए। इस तरह सरकारी कार्यालयों को बिल्कुल कॉरपोरेट ऑफिस की तरह डिजाइन कर दिया गया और प्रबंधन को भी बेहतर बना दिया गया। इस तरह अब सहारनपुर के कलेक्ट्रेट विकास भवन और सदर तहसील उत्तर प्रदेश का पहला ISO प्रमाणित भवन बन गया है।

यह हुए हैं बदलाव
तीनों मुख्य कार्यालय के कर्मचारी आई कार्ड पहनकर ही कार्य करेंगे

सभी कर्मचारियों को इलेक्ट्रॉनिक अटेंडेंस देनी होगी।

तीनों मुख्य कार्यालय के भवनों को पर्यावरण मित्र के रूप में डेवलप किया गया

तीनों भवनों में सौर ऊर्जा यूनिट लगाए गए हैं

फरियादियों के बैठने के लिए पर्याप्त व्यवस्था की गई है

कर्मचारियों में समानता और टीम भावना को विकसित किया गया है

वर्षों से एक ही तरह का कार्य कर रहे कर्मचारियों के कार्यों में फेरबदल किया गया है

कार्यालय कर्मचारियों की दक्षता बढ़ाने के लिए उन्हें विशेष ट्रेनिंग दी गई है

कार्यालय आने वाले फरियादियों का फीडबैक लेने के लिए सुझाव पेटिका ने लगाई गई हैं।

सभी कार्यालयों में ड्रेस कोड लागू किया गया है।

UP News से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Uttar Pradesh Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..