स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

video: यहां पानी में डूबने सात वर्षीय छात्र की मौत, बार-बार आगाह के बाद भी नहीं की गई सुरक्षा व्यवस्था, पढ़ें खबर

Anuj Hazari

Publish: Aug 19, 2019 09:00 AM | Updated: Aug 18, 2019 21:06 PM

Sagar

पत्रिका ने किया था आगाह

बीना. शहर के बीच से निकली मोतीचूर नदी पर नगरपालिका व पुलिस की ओर से सुरक्षा व्यवस्था न होने के कारण नदी में डूबने से सात वर्षीय एक छात्र की मौत हो गई। छात्र शनिवार से लापता था जिसे ढूढऩे पर उसका शव मोतीचूर नदी में मिला है, पुलिस ने शव को निकालकर पीएम कराया, जिसे परिजनों को सुपुर्द कर दिया। दरअसल बारिश के बाद से मोतीचूर नदी उफान पर चल रही है, जहां पर छोटे बच्चों से लेकर बड़े-बड़े लोग भी गोते लगाते दिखाई देते हैं, लेकिन इन्हें रोकने वाला कोई नहीं है। इस संबंध में पत्रिका ने खबर प्रकाशित करके पहले ही आगाह किया था, लेकिन फिर भी सुरक्षा को लेकर न तो नगरपालिका ने ध्यान दिया है न ही पुलिस ने। शनिवार को घी गोदाम इटावा निवासी अनिकेत पिता रामबाबू रजक (7) अपने भाई अभिषेक व अन्य लोगों के साथ लवकुश जयंती पर निकली शोभायात्रा में शामिल हुआ था जो कि बड़े मंदिर के पास कुछ दिनों पहले बनाए गए नए घाट में उतर गया, जहां से वह पानी के बहाव बह गया। इसकी जानकारी न तो छात्र की मां को लग सकी न ही अन्य लोगों के लिए। मृतक अनिकेत का भाई जो साथ में वह न तो मुंह से बोल पाता है न ही उसे कुछ सुनाई देता है, जिसके कारण वह इस घटना के बारे में कुछ नहीं बता सका। इसके बाद छात्र की मां व परिवार के अन्य लोगों ने उसकी तलाश शुरू कर दी, लेकिन उसका कुछ पता नहीं चल सका। तब शनिवार की रात में परिजनों ने इसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट थाने में दर्ज कराई। घर में भाई के न होने पर अनिकेत के भाई अभिषेक ने रविवार को इशारे से अनिकेत के नदी में बहने का इशारा किया, जिसके बाद उसकी तलाश नदी के पास की गई जहां पर उसका शव मिला।
रविवार सुबह लोगों ने नदी के पास की तलाश
रविवार सुबह अनिकेत के परिजन उसकी तलाश में निकले। जिसकी तलाश करने पर वह देहरी रोड व आगासौद रोड के बीच नदी में पत्थरों के बीच मृत अवस्था में मिला। जिसकी जानकारी एक युवक ने डायल 100 के लिए दी, जिसमें ड्यूटी पर मौजूद आरक्षक दीपक शुक्ला व पायलट प्रसन्न पटेल व चीता पुलिस मौके पर पहुंची और शव को नदी के बाहर निकाला। इसके कुछ देर बाद थानाप्रभारी मैना पटेल, एसआई याकूब किरकेट्टा मौके पर पहुंचे और शव का पंचनामा बनाकर शव को सिविल अस्पताल पीएम के लिए लेकर आए। जहां पर उसका पीएम करके शव परिजनों को सौंप दिया, पुलिस ने मामले में मर्ग कायम कर लिया है।
परिजनों का रो-रो कर हुआ बुरा हाल
सात वर्षीय छात्र के गुम हो जाने के बाद मां ने अपने बेटे अनिकेत को कई जगह तलाशा, लेकिन जब उसे अपने बेटे के मृत होने की जानकारी लगी तो यह सुनते ही मां बेहोश हो गई। परिवार के अन्य सदस्यों का भी रो-रोकर बुरा हो गया। नदी पर मृत अवस्था में अनिकेत को देख वहां खड़े हर व्यक्ति की आंखें नम हो गईं।