स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बोर्ड परीक्षाओं की तैयारी शुरू, अंग्रेजी पढ़ाने नहीं शिक्षक

sachendra tiwari

Publish: Jan 17, 2020 09:15 AM | Updated: Jan 16, 2020 21:32 PM

Sagar

आठ केन्द्रों पर होगी बोर्ड परीक्षा

बीना. बोर्ड परीक्षाओं के लिए डेढ़ माह का समय बचा है, लेकिन अभी तक हाइ और हायर सेकंडरी स्कूलों में अंग्रेजी पढ़ाने के लिए शिक्षक नहीं हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में स्थिति सबसे ज्यादा खराब है, यहां अतिथि शिक्षक भी नहीं मिल रहे हैं।
मार्च में हाइ और हायर सेकंडरी स्कूल की परीक्षा शुरू हो जाएगी और इसके लिए तैयारियां भी शुरू हो गई हैं। परीक्षा के लिए आठ केन्द्र बनाए हैं, जिसमें उत्कृष्ट स्कूल, शासकीय स्कूल क्रमांक दो, भानगढ़, मंडीबामोरा, पार, कंजिया और निजी स्कूलों में बीना पब्लिक, शिशु मंदिर स्कूल शामिल है। इस वर्ष कक्षा दसवीं में रेगुलर 2709, प्राइवेट 270 विद्यार्थी और कक्षा बारहवीं में रेगुलर 2002, प्राइवेट 300 विद्यार्थी परीक्षा में बैठेंगे। परीक्षा की तैयारियां तो शुरू हो गई हैं, लेकिन अभी तक ग्रामीण क्षेत्र के स्कूलों में अंग्रेजी पढ़ाने वाले शिक्षक नहीं मिल पाए हैं और दूसरे विषयों के शिक्षकों से अंग्रेजी पढ़ाई कराई जा रही है। ऐसी स्थिति में अच्छे परीक्षा परिणाम की उम्मीद कैसे की जाती है। गणित पढ़ाने के लिए भी पर्याप्त शिक्षक नहीं हैं। यह कमी कई वर्षों से बनी हुई है, लेकिन अभी तक शिक्षा विभाग द्वारा इसकी व्यवस्था नहीं कराई जा रही है।
फर्नीचर की नहीं हो पाई थी व्यवस्था
पिछले वर्ष कंजिया परीक्षा केन्द्र पर पर्याप्त फर्नीचर की व्यस्था नहीं हो पाई थी और बड़ी संख्या में विद्यार्थियों ने टाट पट्टी पर बैठाकर परीक्षा दी थी। इस वर्ष शिक्षा विभाग के अधिकारी पर्याप्त फर्नीचर होने का दावा कर रहे हैं।
प्री-बोर्ड परीक्षाएं शुरू
प्री-बोर्ड परीक्षाएं शुरू हो गई हैं और पेपर के बाद दूसरे दिन के होने वाले पेपर की तैयारी के लिए रेमीडियल कक्षाएं लगाई जा रही हैं, जिससे तैयारी अच्छे तरीके से हो सके।
की जा रही है व्यवस्था
आठ केन्द्रों पर परीक्षाएं संपन्न होंगी और सभी केन्द्रों पर व्यवस्थाएं बनाने के निर्देश दिए हैं। साथ ही कंजिया परीक्षा केन्द्र पर भी पर्याप्त फर्नीचर की व्यवस्था की गई है। ग्रामीण क्षेत्रों में अंग्रेजी के शिक्षकों की कमी है और दूसरे विषयों के शिक्षकों की मदद ली जा रही है।
जेड इक्का, सहायक संचालक, बीना

[MORE_ADVERTISE1]