स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

डॉक्टर के बराबर होता है फार्मासिस्ट का नॉलेज, याद रखते हैं हजारों दवाओं के नाम

Reshu Jain

Publish: Jan 12, 2020 05:02 AM | Updated: Jan 11, 2020 20:31 PM

Sagar

फार्मासिस्ट डे आज

 

सागर. आज पूरे देश में फार्मासिस्ट डे सेलिब्रेट किया जा रहा है। फार्मासिस्ट डे देशभर के फार्मासिस्ट को समर्पित है। हमारी अच्छी सेहत के पीछे फार्मासिस्ट का खास योगदान है। फार्मासिस्ट एक अदभुद शब्द है जो कि दवा विशेषज्ञ की पहचान है। वर्तमान में यह उपाधि फार्मेसी क्षेत्र में दो वर्षीय डिप्लोमा और चार वर्षीय डिग्री धारक को प्रदान की जाती है। इस उपाधि को धारित व्यक्ति दवा से सम्बंधित सभी क्षेत्रों में विशेषज्ञ समझा जाता है। फार्मासिस्ट को दवा के निर्माण से लेकर उसके भंडारण और वितरण में जिम्मेदारी पूर्वक अहम भूमिका निभानें के लिए तैयार किया जाता है।

कहां है फार्मासिस्ट की जरूरत

फार्मासिस्ट की समाज में एक प्रमुख भूमिका होती है तथा जिस प्रकार डॉक्टर बिमारियों के परीक्षण में महारथ हासिल रखता है, ठीक उसी प्रकार फार्मासिस्ट दवा का सम्पूर्ण विशेषज्ञ होता है। फार्मासिस्ट का दवा के प्रति ज्ञान और जिम्मेदारी देखकर ही जहां दवा वहां फार्मासिस्ट का नारा दिया जाता है। सामाजिक तौर पर फार्मासिस्ट, डॉक्टर और मरीज के बीच की प्रमुख कड़ी होता है जो डॉक्टर और मरीज के बीच समन्वय स्थापित कर, डॉक्टर के निर्देशानुसार दवा वितरण करता है।

कैरियर के लिए खुलते हैं कई द्वार

फार्मासिस्ट अरूण प्रजापति ने बताया कि फार्मासिस्ट की डिग्री लेने के बाद कैरियर के भी कई द्वार खुलते हैं। डॉक्टर के साथ समायोजन फार्मासिस्ट बनाता है, वही दवाइयों की सलाह देता है। हालांकि अभी फार्मासिस्ट के लिए दवा लिखने का अधिकार नहीं मिला है। उन्होंने बताया कि बीफार्मा, एमफार्मा और पीएचडी के बाद फार्मा इंडस्ट्री में शानदार कैरियर है। विदेशों में इसकी बहुत अधिक मांग है। भारत में भी कई कंपनियां अपनी दवा बना रही हैं। वहीं डिग्री के बाद एज्युकेशन लाइन में भी जा सकते हैं। इसके अलावा सरकारी क्षेत्र में फार्मासिस्ट की अहम भूमिका होती है। सरकारी अस्पताल और मेडिकल कॉलेज में ड्रग मैनेजमेंट कॉर्डिनेट की भूमिका फार्मासिस्ट निभाते हैं। जो आने वाले तीन माह में इस्तेमाल की जाने वाली दवाओं का स्टोरेज रहते हैं और डॉक्टर की भी समय-समय पर अवगत किस दवा की कितनी जरूरत है।

ये होती है खासीयत
- फार्मासिस्ट एक विशेषज्ञ हैं जो आपकी दवाओं के बारे में जानता है। उसे इस बात का जानकारी है कि किस दवा का क्या दुष्प्रभाव हो सकता है। इसलिए यदि आप एक नई दवा लेने जा रहे हैं, तो वो आपको सलाह देता है। इसलिए अगर आपको दवाओं को लेकर कुछ भी भ्रम है, तो आपका फार्मासिस्ट आपके काम आ सकता है।

- फार्मासिस्ट आसानी से एक मरीज की दवा की हिस्ट्री जानता है। वो यह भी जानता है कि किस मरीज को किस दवा से दुष्प्रभाव हो सकता है। उदहारण के लिए वो यह जानता है कि कई कारक जैसे कि तनाव अवांछित दुष्प्रभावों के कारण बन सकते हैं।

- एक फार्मासिस्ट आपका साथी है इसलिए उसका ध्यान आपकी सेहत को बहतर बनाने पर होता है। कई बार आप बिना डॉक्टर के पर्चे के बिना उससे दवाएं लेते हैं। उसकी कोशिशि रहती है कि वो आपको सही दावा दे ताकि आपका भरोसा उस पर कायम हो।

- फार्मासिस्ट के लिए नैचुरल सप्लीमेंट की अच्छी जानकारी होती है।

[MORE_ADVERTISE1]