स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सुलभ कांप्लेक्स तो बनवा नहीं पाए, अस्थाई सुविधा भी छीनी, नपा अधिकारियों को पता ही नहीं

sachendra tiwari

Publish: Sep 19, 2019 09:15 AM | Updated: Sep 18, 2019 20:43 PM

Sagar

स्वच्छता अभियान के नाम पर हो रहा दिखावा

बीना. शहर के मुख्य चौराहा, तिराहों पर सुलभ कांप्लेक्स न होने के कारण लोग परेशान होते हैं, लेकिन सरकारी जगह न होने की बात कर अधिकारी इस बात को टाल देते हैं। कांप्लेक्स न होने के कारण सर्वोदय चौराहे पर अस्थाई यूरिनल रखे गए थे जो करीब दो माह से गायब हैं और लोग परेशान हो रहे हैं।
स्वच्छता अभियान को लेकर करोड़ों रुपए खर्च किए जा रहे हैं, लेकिन स्वच्छता के लिए सबसे जरूरी काम पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। शहर के मुख्य स्थानों पर सुलभ कांप्लेक्स नहीं बन पा रहे हैं। सर्वोदय चौराहे पर बड़ी संख्या में हर दिन महिला, पुरुष आते हैं, लेकिन इन्हें कांप्लेक्स न होने के कारण परेशान होना पड़ता है। लोगों की समस्या को देखते हुए चौराहे पर दो यूरिनल रखे गए थे जो दो माह पहले सफाई के नाम पर उठा लिए गए हैं और फिर वापस नहीं रखे गए। अब यहां आने वाले लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। सबसे ज्यादा परेशानी महिलाओं को होती है। इस संबंध में कुछ लोगों ने नगरपालिका के कर्मचारियों से यथावत यूरिनल रखने की मांग भी की थी, लेकिन हुआ कुछ नहीं। इसी तरह शहर के अन्य चौराहों, तिराहों पर भी स्थिति बनी हुई है। यहां भी कांप्लेक्स न होने के कारण लोग परेशान होते हैं और यहां पर जो अस्थाई यूरिनल रखे गए हैं उनमें गंदगी पसरी रहती है। सफाई प्रभारी नजीव काजी ने बताया कि मकान मालिक के कहने के बाद यूरिनल हटा दिए गए थे। इसके बाद दूसरी जगह नहीं रखा गया है।
जनप्रतिनिधि नहीं दे रहे ध्यान
जनप्रतिनिधियों को इस समस्या से कोई सरोकार नहीं है। जबकि चौराहे पर सभी का आना जाना रहता है। इसके बाद भी वहां व्यवस्था बनाने के लिए कोई प्रयास नहीं किए जा रहे हैं। सुलभ कांप्लेक्स की मांग को लेकर कई बार लोगों ने ज्ञापन भी सौंपे हैं। यहां अधिकारियों का कहना है कि सरकारी जगह न होने के कारण कांप्लेक्स नहीं बन पाता है, लेकिन लोगों की सुविधा के लिए निजी जमीन को भी अधिग्रहित किया जा सकता है।
कराएंगे व्यवस्था
हमें इस संबंध में जानकारी नहीं है। यदि वहां से यूरिनल हटाए गए हैं तो उन्हें फिर से रखवाया जाएगा।
पूरनसिंह बुंदेला, सीएमओ