स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

खतरनाक मोड़ पर नहीं लगे संकेतक, हादसों का डर

Manish Kumar Dubey

Publish: Sep 19, 2019 15:12 PM | Updated: Sep 19, 2019 15:12 PM

Sagar

खतरनाक मोड़ पर नहीं लगे संकेतक, हादसों का डर

देवरी कला. नेशनल हाइवे 26 पर चिन्हित किए गए खतरनाक पाइंटो पर संकेतक लगाए जाने की मांग नागरिको ने की है। लोगों का कहना है कि नेशनल हाइवे पर देहार नदी के पुल पर हादसे की आशंका बनी रहती है।
रानगिर तिराहे पर रानगिर पहुंच मार्ग एवं ढलान वाले मोड़ पर वहीं, बिजोरा पहुंच मार्ग पर अंधे मोड़ के पास और चीमाडाना पहुंच मार्ग पर भी हादसे की आशंका बनी रहती है। इसी तरह चितौरा गाव भी फोर लाइन पर ही है। प्रशासन ने पाइंटों की रिपोर्ट बनाकर राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण को सौपी थी लेकिन इसके बाद कार्य न होने पर हादसों पर अंकुश नही लग रहा है इसके अलावा टिकरिया टिगड्डा बिजोरा रीछई सगरा महाराजपुर तीतरपनी के पास आये दिन हादसे होते रहते हैं।
नगर से बाहर जाने औऱ नगर में प्रवेश के मुख्य पांच पाइंट है जो कि दुर्घटना संभावित क्षेत्र की श्रेणी में आते है। नगर में प्रवेश के लिए नेशनल हाईवे 26 से देवरी से नरसिंहपुर रोड पर क्षीर चौराहा, दूसरी और देवरी से सागर रोड पर बायपास तिगड्डा और देवरी से रहली रोड पर बीना तिगड्डा और देवरी से पुरैना रोड पर सिलारी टिगड्डा आदि हाईवे पर खतरनाक स्थल हैं यहां कई हादसे हो चुके हैं । इन मुख्य मार्गो पर न तो संकेतक चिन्ह है और न कोई दिशा निर्देशक हैं। ऐसा लापरवाह बना हुआ हाईवे प्रबंधन ।

दुर्घटना संभवित क्षेत्रो का पुन: आकलन कराकर दुर्घटना बोर्ड एवम संकेतक लगाने के निर्देश दिए जाएंगे ताकि किसी प्रकार के हादसे न हो सकें।
अजीत पटेल, अनुविभागीय अधिकारी पुलिस देवरी
सड़क की मरम्मत की दरकार


गौरझामर. ग्राम पंचायत जैतपुर कछिया के टोला पंढरपुर स्कूल प्राथमिक शाला एवं माध्यमिक शाला को लेकर ग्रामीण द्वारा गौरझामर पुलिस थाना पहुंचकर मुख्यमंत्री, कैबिनेट मंत्री हर्ष यादव के नाम थाना प्रभारी आसाराम अहिरवार को एक लिखित आवेदन दिया गया। आवेदन में रोड बनवाने की बात कही गई है। बताया गया कि रोड की मरम्मत न होने के कारण प्राइमरी और मिडिल स्कूल के बच्चे परेशान होते हैं। छोटे बच्चों के बह जाने का भी खतरा बना रहता है। 15 वर्षों से इस रोड पर ग्राम पंचायत द्वारा कोई मरम्मत कार्य नहीं कराया गया। इस संबंध में अनेकों बार आला अधिकारियों से भी शिकायत की पर किसी भी अधिकारी ने इस ओर ध्यान नहीं दिया।