स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

दोपहर में ट्रेन से भोपाल जाना है तो पता कर लें पहले सप्ताहिक शेड्यूल, नहीं तो हो जाएंगे परेशान

Aakash Tiwari

Publish: Oct 21, 2019 08:05 AM | Updated: Oct 20, 2019 20:39 PM

Sagar

-सागर से भोपाल जाने के लिए दोपहर में नहीं नियमित ट्रेन, जानकारी के अभाव में परेशान हो रहे यात्री।

 

सागर. भोपाल जाने के लिए सागर से दोपहर के समय एक भी नियमित ट्रेन नहीं है। यह स्थिति लंबे अरसे से शहर के लोगों की परेशानी बनी हुई है। इधर, स्थानीय जनप्रतिनिधियों द्वारा ट्रेन को लेकर किए गए वायदे भी पूरी तरह जुमले साबित हुए हैं। हैरानी की बात यह है कि सुबह १० बजे से दोपहर २ बजे तक यानी ४ घंटे के बीच में एक भी ट्रेन भोपाल के लिए नहीं रहती है। एेसे में यात्रियों को मजबूरीवश बस का सफर कर भोपाल जाना पड़ रहा है। इधर, रेलवे बोर्ड ने बिलासपुर-भोपाल ट्रेन के समय में बदलाव कर यात्रियों की मुसीबत कम नहीं की बल्कि उसे और बढ़ा दिया है। जानकारी के अनुसार यह ट्रेन दोपहर १२ बजे की जगह अब सागर में सुबह १० बजे पहुंचती है, लेकिन रेलवे बोर्ड ने बीना और भोपाल के समय में कोई बदलाव नहीं किया है। यह ट्रेन भोपाल में पूर्व की तरह शाम ६.३० बजे पहुंच रही है।
-साप्ताहिक ट्रेने भी नहीं आ रही रास

कहने को तो सागर से भोपाल जाने के लिए दो ट्रेनें हैं। यह ट्रेनें सप्ताह में ४ दिन सागर से भोपाल जाती हैं। लेकिन इनका समय यात्रियों को रास नहीं आ रहा है। राजकोट एक्सप्रेस सप्ताह में दो दिन यानी सोमवार और शुक्रवार को रहती है, जो दोपहर २ बजे स्टेशन आती है। इधर, क्षिप्रा एक्सप्रेस की बात करें तो भले ही यह ट्रेन सप्ताह में ३ दिन सागर आती है, लेकिन सागर में इसके पहुंचने का शाम ४ बजे होता है। सप्ताह में तीन दिन एेसे होते हैं कि सुबह १० बजे के बाद से शाम ४ बजे तक एक भी ट्रेन नहीं होती। यह ट्रेन मंगलवार, शुक्रवार और रविवार को सागर आती है।
-तीन दिन तो १५ घंटे तक नहीं रहती ट्रेन

सप्ताह के तीन दिन तो सुबह १० बजे से रात १ बजे तक एक भी ट्रेन भोपाल के लिए नहीं है। बुधवार, गुरुवार और शनिवार का दिन यात्रियों के लिए काफी कठिन होता है। इस दिन रात १ बजे से पहले कोई ट्रेन नहीं होी। कई यात्री बीना पहुंचकर भोपाल जाने के लिए ट्रेन पकड़ते हैं।
-एक साल बाद भी नहीं नियमित हो पाई क्षिप्रा एक्सप्रेस

क्षिप्रा एक्सप्रेस ट्रेन को नियमित किए जाने की घोषणा एक साल पहले रेल मंत्री पियूष गोयल ने की थी। लेकिन अभी तक यह ट्रेन नियमित नहीं हो पाई है। वहीं, पिछले महीने सांसद राजबहादुर सिंह ने अफसरों के समक्ष इस प्रस्ताव को रखा था और जल्द इस ट्रेन को सागर से नियमित चलाए जाने की बात कही थी। रेलवे बोर्ड से अभी तक इसको लेकर कोई सुगबुगाहट सुनाई नहीं दे रही है।
-तीन गुना किराया लगाकर पहुंच रहे भोपाल

दोपहर को भोपाल के लिए ट्रेन न होने से बड़ी संख्या में लोग बसों से भोपाल तक का सफर कर रहे हैं। भोपाल तक यदि एक्सप्रेस ट्रेन से रिजर्वेशन कराकर यात्री जाता है तो उसे १२५ रुपए लगते हैं। वहीं सामान्य टिकट का किराया ८५ रुपए है। लेकिन बस में यह किराया ३५० रुपए से ज्यादा है। एेसे में यात्रियों को तीन गुना राशि देकर भोपाल पहुंचना पड़ रहा है।


क्षिप्रा एक्सप्रेस ट्रेन को नियमित करना जरूरी है। इसको लेकर कई बार ज्ञापन सौंपे जा चुके हैं। रेल मंत्री ने एक साल पहले इसकी घोषणा की थी, लेकिन अभी तक यह ट्रेन नियमित नहीं की गई। राजकोट एक्सप्रेस भी सप्ताह में २ दिन सागर से होकर भोपाल जाती है। जबकि उसे ३ दिन किया जा सकता है। यदि क्षिप्रा एक्सप्रेस ट्रेन जल्द नियमित नहीं होती है तो निश्चित रूप से हमारा संघटन आंदोलन की राह पकड़ेगा।

रवि सोनी, अध्यक्ष रेल सेवा सुधार समिति


अभी क्षिप्रा एक्सप्रेस सप्ताह में तीन दिन सागर से होकर जा रही है। नियमित किए जाने को लेकर अभी कोई निणर्य नहीं लिया गया है। बोर्ड तय करेगा कि क्या करना है।

डॉ. मनोज सिंह, डीआरएम जबलपुर मंडल