स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

खुरई रोड पर बन रहे ब्रिज के लिए टूटेंगे मकान, लोग कर रहे विरोध

sachendra tiwari

Publish: Dec 09, 2019 09:15 AM | Updated: Dec 08, 2019 20:37 PM

Sagar

दोनों ओर बनाया जाना है एप्रोच रोड

बीना. खुरई रोड स्थित रेलवे गेट पर बनने वाले ओवरब्रिज के कारण इस रोड पर रहने वाले लोगों को परेशानी में डाल दिया है। पहले ब्रिज निर्माण में सिर्फ एक मकान के ऊपर का हिस्सा टूटना था, लेकिन अब एप्रोच रोड में कई मकान इसकी जद में आ रहे हैं। इसके लिए सर्वे भी हो चुका है।
मिली जानकारी के अनुसार ओवरब्रिज के पिलर बीच सड़क पर बनेंगे, लेकिन रोड के सेंटर से दोनों तरफ 12—12 मीटर जमीन की जरूरत एप्रोच रोड बनाने के लिए है। एप्रोच रोड निर्माण में अब कई लोगों के मकान आ रहे हैं, जिनका आगे तरफ का हिस्सा तोड़ा जाना है। इसके लिए नेशनल हाइवे के अधिकारियों के साथ ब्रिज निर्माण करने वाली कंपनी के कर्मचारियों द्वारा सर्वे भी कर लिया गया है और मकानों को चिंहित कर दिया गया है। जिन लोगों के मकानों के हिस्सा टूटना हैं उनकीरजिस्ट्री मांगी जा रही हैं, जिससे उन्हें जगह के अनुसार मुआवजा दिया जा सके।
लोग कर रहे विरोध
खुरई रोड पर रहने लोगों का कहना कि पहले जब ओवरब्रिज निर्माण की डिजाइन बनाई गई थी, उसमें सिर्फ एक मकान का कुछ हिस्सा जा रहा था, लेकिन अब कई मकानों को तोड़ा जा रहा है। अचानक लोगों को मकानों की रजिस्ट्री मांगी जा रही हैं। खुरई रेलवे गेट पर ब्रिज बनने के विरोध में जून माह में लोगों ने सांसद, विधायक के लिए ज्ञापन सौंपा था और यहां ब्रिज की जगह अंडरब्रिज बनाने की मांग की थी। क्योंकि 400 मीटर की दूरी पर एक रेलवे ओवरब्रिज का निर्माण रेलवे द्वारा कराया जा रहा है। साथ ही यहां ओवरब्रिज के बनने से शहर के अंदर से भारी वाहन निकलेंगे और इस रोड के कई व्यापारियों का व्यापार प्रभावित हो जाएगा।
दोनों तरफ 12—12 मीटर जमीन की है जरूरत
ब्रिज के दोनों ओर 12—12 मीटर जमीन की जरूरत है, जिससे एप्रोच रोड बनाया जा सके। इसके लिए सर्वे भी किया गया है और मकान चिंहित किए गए हैं। रजिस्ट्री मिलने के बाद सीमांकन कराकर सभी को मुआवजा दिलाया जाएगा।
सरफराज कुरैशी, एसडीओ, नेशनल हाइवे

[MORE_ADVERTISE1]