स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

नवंबर में शिक्षकों ने सीखे एनसीइआरटी किताबों से पढ़ाने के गुर, अब कल से शुरू होगी छ:माही परीक्षा

Reshu Jain

Publish: Dec 08, 2019 04:04 AM | Updated: Dec 07, 2019 19:55 PM

Sagar

- देरी से दिए गए प्रशिक्षण से विद्यार्थियों को नहीं मिलेगा लाभ

- 5 विषय के प्रशिक्षण में लगभग 150 शिक्षक रहे गैर हाजिर

सागर.शासकीय स्कूलों में कला व वाणिज्य में एनसीइआरटी का पाठयक्रम इस सत्र से लागू हो गया। अप्रैल से पाठयक्रम लागू होने के बाद नवंबर माह में शिक्षकों के लिए संभाग स्तरीय प्रशिक्षण का आयोजन किया गया। जबकि 9 दिसंबर से ही सरकारी स्कूलों में अर्ध वार्षिक परिक्षाएं शुरू हो रही हैं। यह प्रशिक्षण 6 नवंबर से शुरू होकर विषयवार ३० नवंबर तक एमएलबी स्कूल (क्रं१) में आयोजित किया गया। जिसमें मास्टर ट्रेनर ने शिक्षकों के लिए पुस्तकों को पढ़ाने का तरीका बताया ताकि परिक्षा परिणाम बेहतर आ सकें। लेकिन प्रशिक्षण देरी से शुरू होने की वजह से इस परीक्षा में छात्र-छात्राओं को लाभ ही नहीं मिल पाएगा। प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद छात्रों को कितना बेहतर नया पाठयक्रम पढ़ा पाते है यह परीक्षा परिणाम बताएंगे। 9 दिसंबर में अर्ध वार्षिक परीक्षा होने के बाद फरवरी में ही बोर्ड परीक्षा शुरू हो जाएगी।


गैर हाजिर रहे शिक्षक, लाखों रुपए हुए खर्च

संभाग स्तरीय प्रशिक्षण शिविर में 30 फीसदी शिक्षक गैर हाजिर रहे हैं। ३ नवंबर से लेकर 30 नवंबर तक वाणिज्य, इतिहास, राजनीति शास्त्र, भूगोल और अर्थशास्त्र का प्रशिक्षण दिया गया। हर विषय में एक भी दिन पूरे शिक्षक मौजूद नहीं रहे, बल्कि बड़ी संख्या शिक्षकों में प्रशिक्षण प्राप्त ही नहीं किया। शिक्षा विभाग द्वारा लाखों रुपए की राशि खर्च करने के बावजूद भी प्रशिक्षण कारगार साबित नहीं हुआ है। बताया जा रहा है प्रशिक्षण में 1 शिक्षक के ऊपर 2000 रुपए का व्यय आता है।

मई व जून में विज्ञान व गणित का प्रशिक्षण

बताया जा रहा है कि अगले वर्ष कक्षा 12 वीं को पाठयक्रमएनसीइआरटी आधारित होगा। इसके लिए मई व जून में गणित एवं विज्ञान विषय का प्रशिक्षण शिक्षकोंं को दिया जाएगा। अप्रैल से पाठयक्रम लागू होने के बाद नवम्बर में शिक्षकों के लिए प्रशिक्षण आयोजित किया गया, जबकि फरवरी माह में छात्रों की बोर्ड परीक्षा होनी है। प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद दो महीनें छात्रों को कितना बेहतर नया पाठयक्रम पढ़ा पाते है यह परीक्षा परिणाम बताएंगे।

ऐसे चला विषय बार प्रशिक्षण

विषय कुल शिक्षक अनुपस्थित प्रशिक्षण की अवधी
वाणिज्य 46 17 6-10 नवंबर

इतिहास ११५ ३५ ११- १५ नवंबर
राजनीति शास्त्र १७५ ४२ १६-२० नवंबर

भूगोल १३८ ३२ २१-२५ नवंबर
अर्थशास्त्र १४४ २४ २६-३० नवंबर

प्रशिक्षण की अवधी राज्यस्तर से तय की गई थी। जो शिक्षक अनुपस्थित रहे हैं उनका 5 दिन का वेतन काटा गया है, इसमें जो शिक्षक वाकई किन्हीं कारणों से प्रशिक्षण में उपस्थित नहीं हो पाए उन्हें भोपाल से ही वेतन मिलेगा।

आरएन शुक्ला, जेडी

[MORE_ADVERTISE1]