स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पॉलीथिन पर प्रतिबंध के लिए कुछ दिन शेष, मार्केट में नहीं पॉलीथिन का दूसरा विकल्प

Anuj Hazari

Publish: Sep 23, 2019 09:00 AM | Updated: Sep 22, 2019 20:29 PM

Sagar

पीएम मोदी द्वारा की गई 2 अक्टूबर से पॉलीथिन के पूर्ण प्रतिबंध की घोषणा

बीना. पंद्रह अगस्त को पीएम मोदी द्वारा की गई 2 अक्टूबर से पॉलीथिन के पूर्ण प्रतिबंध की घोषणा के बाद पॉलीथिन बेचने वाले व्यापारियों व इसका उपयोग करने वाले लोगों में हड़कंप मचा हुआ है। पॉलीथिन को बंद होने में नौ दिन शेष हैं। दुकानदार भी अब यह चाहते हैं कि उनके पास मौजूद स्टॉक के लिए जल्द से जल्द मार्केट में खपा दिया जाए।रविवार को पत्रिका टीम ने सर्वोदय चौराहा स्थित कई दुकानों पर जाकर सामान खरीदा, जिसमें मिठाई, फल, सब्जी की दुकानें शामिल की गई। इनमें से एक भी दुकान ऐसी नहीं रही जहां पर कपड़े या जूट से बने पैकेट या बैग में सामान दिया गया हो, जिससे यह बात साफ जाहिर होती है कि दुकानदारों ने पॉलीथिन के बंद होने के तुरंत बाद उपयोग में लाने के लिए छोटे दुकानदारों को उपयोग करने के लिए किसी भी प्रकार का विकल्प नहीं ढूंढ़ा है। सबसे ज्यादा दिक्कत छोटे दुकानदारों के लिए होगी, जिनके लिए पॉलीथिन का उपयोग सस्ता पड़ता था और सामान देने में भी कोई दिक्कत नहीं होती थी।
पेपर कैरी बैग का बड़ेगा व्यापार
कागज से बने कैरी बैग का व्यापार अब जोर पकड़ेगा। इसके लिए भी कई व्यापारियों ने पहले से तैयारी करके रख ली है। इसके लिए पेपर के रेट में भी बढ़ोत्तरी होगी, लेकिन पेपर बैग को उसमें रखे जाने वाले सामान की वजन के अनुसार मजबूती देनी होगी, जिससे उसके रेट भी ज्यादा होंगे।
कागज के डिस्पोजल आएंगे बाजार में
सिंगल यूज प्लास्टिक से बने डिस्पोजल बंद होने के बाद कागज से डिस्पोजल मार्केट में लाए जाने की तैयारी है, लेकिन यह पानी के उपयोग में जल्द गले नहीं इसके लिए इसकी मोटाई को बढ़ाया जाएगा, जिससे इसका रेट भी ज्यादा रहेगा। व्यापारी दीपक गोस्वामी ने बताया कि इसे बनाने के लिए भी अच्छी क्वालिटी के कागज का उपयोग किया जाता है जो पानी के संपर्क से जल्दी नहीं गलता है।
कपड़े के बैग का मार्केट भी बढ़ेगा
कपड़े से बने बैग भी मार्केट में बिकने के लिए लाए गए हैं। जिसका व्यापार भी दो अक्टूबर के बाद पॉलीथिन के बैन होने के बाद जोर पकड़ेगा। बुजुर्ग आज भी पॉलीथिन की बजाए कपड़े के बैग का उपयोग करते हैं।