स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

शिक्षा विभाग इस बार मनाएगा सार्थक दिवाली, बच्चों को बांटेंगे कपड़े के थैले

Vishnu Kumar Soni

Publish: Oct 21, 2019 15:05 PM | Updated: Oct 21, 2019 15:05 PM

Sagar

शिक्षा विभाग इस बार मनाएगा सार्थक दिवाली, बच्चों को बांटेंगे कपड़े के थैले

सागर. पालक शिक्षक संघ की बैठक के दूसरे दिन रविवार को जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय में प्राचार्य की बैठक आयोजन किया गया। बैठक का मुख्य उ²ेश्य रिजल्ट की समीक्षा करना था। जिन स्कूलों का कम रिजल्ट आया वहां के प्राचार्यों से विशेष तौर पर कारण जाने गए कि स्कूलों में क्या कमी रही। बैठक में यह भी सामने आया कि जिन स्कूलों में अतिथि शिक्षकों ने पढ़ाई कराई वहां का रिजल्ट बेहतर रहा है। बैठक में जिला शिक्षा अधिकारी महेंद्र प्रताप तिवारी ने सभी प्राचार्यों से कहा कि इस बार सार्थक दीपावली के रूप में शिक्षक स्कूल में व बच्चें अपने-अपने घरों में पौधे लगाए, बच्चों को पॉलिथिन से मुक्त रखने के लिए एक-एक थैला वितरित किया जाए। सभी प्रयास करें कि सभी बच्चें व शिक्षक पौधे लगाते हुए फोटो खींचें व एक ग्रुप के माध्यम से सार्थक दीपावली ग्रुप पर भेजे। यदि हम सभी का यह प्रयास सफल होता है तो हम अन्य जिलों की तुलना में आगे होने के साथ एक रिकॉर्ड स्थापित कर सकेंगे।
अभिभावकों की प्रतिक्रिया पर हुई चर्चा: बैठक में जहां त्रिमासिक परीक्षाओं के परिणाम घोषित होने के साथ अभिभावकों की प्रतिक्रिया पर चर्चा हुई। वहीं कमजोर विद्यार्थियों व तीन श्रेणी में बनाए गए परिणामों के आधार पर हर विद्यार्थी को आगे बढ़ाने के लिए रेमेडियल कक्षाओं को व्यवस्थित शुरू कराने की बात कही गई। बैठक के दौरान जिला शिक्षा अधिकारी महेंद्र प्रताप तिवारी ने कहा कि यदि स्कूल परिणाम में सुधार करना है तो सबसे पहले स्कूल न आने वाले छात्रों को स्कूल लाना पड़ेगा। यदि वह स्कूल नहीं आते तो चि_ी लिखे। क्योंकि यदि स्कूल में 4 बच्चों ने भी परीक्षा नहीं दी और आपके स्कूल में उनका
प्रवेश है, आप उन्हें स्कूल नहीं ला पा रहे हो तो उस स्कूल का परिणाम वैसे भी 100 फीसदी नहीं हो सकता। जिन बच्चों ने परीक्षा नहीं दी वह फेल माने जाएंगे।