स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

video: तीन लाख लकड़ी की चम्मच से बन रही ईको फ्रेंडली गणेश प्रतिमा, साहू समाज मंदिर होगी स्थापना

sachendra tiwari

Publish: Aug 20, 2019 09:15 AM | Updated: Aug 19, 2019 21:23 PM

Sagar

हर वर्ष बनाते हैं ईको फ्रेंडली प्रतिमाएं

बीना. हर वर्ष गणेशोत्सव में पीओपी की प्रतिमाएं बनाई जाती हैं, जिससे विसर्जन के समय पर्यावरण को हानि पहुंचती है, लेकिन शहर के एक मूर्तिकार द्वारा ईको फे्रंडली प्रतिमा ही बनाई जाती है। इस वर्ष वह उन्होंने लकड़ी की चम्मच से भगवान गणेश की प्रतिमा तैयार की जा रही है, जिससे विसर्जन के समय पर्यावरण को हानि न पहुंचे।
साहू समाज मंदिर पर हर वर्ष ईको फ्रेंडली प्रतिमा विराजित की जाती है। प्रतिमा को मूर्तिकार चौधरी अशोक साहू द्वारा तैयार की जाता है। इस वर्ष उनके द्वारा लकड़ी की चम्मच से प्रतिमा बनाई जा रही है। इसमें करीब तीन लाख चम्मच का उपयोग किया जा रहा है। प्रतिमा की ऊंचाई करीब 10 फुट है। प्रतिमा बिना किसी सपोर्ट के बनाई जा रही है। विसर्जन के समय इस प्रतिमा से पर्यावरण को किसी प्रकार की हानि नहीं होगी। पर्यावरण को सुरक्षित रखने के लिए मूर्तिकार द्वारा प्रतिमा पर किसी प्रकार का कलर भी नहीं किया जाता है। उन्होंने बताया कि लोगों को गणेशोत्सव और दुर्गा उत्सव पर ईको फ्रेंडली प्रतिमाएं ही बनाना चाहिए, जिससे विसर्जन के समय जल प्रदूषण न हो और जलीय जीवों को भी इससे हानि न पहुंचे।
तीस वर्षों से बना रहे प्रतिमा
श्री साहू द्वारा साहू समाज मंदिर के लिए तीस वर्षों से प्रतिमा का निर्माण किया जा रहा है। उनके द्वारा अभी तक नारियल, कबीट, लाई, घी, दाल, धनिया, साबूदाना, मूंगफली, बूंदी, नमकीन सेव, सितारे, बूंदी के लड्डू, कागज के डिस्पोजल, नारियल के गोला आदि सामग्री की प्रतिमाएं बना चुके हैं। इनके द्वारा बनाई गईं प्रतिमाएं आकर्षण का केन्द्र होती हैं। हर वर्ष सिर्फ एक ही प्रतिमा तैयार की जाती है।
नवयुवक मंडल कराता है आयोजन
साहू समाज मंदिर पर गणेशोत्सव का आयोजन नवयुवक मंडी साहू समाज द्वारा कराया जाता है। प्रतिमा निर्माण में भी मंडल द्वारा पूरा सहयोग किया जा रहा है। जिसमें मुकेश साहू, विनय साहू, राजू, साहू, शिवेन्द्र राजपूत, नीलेश, सुरेन्द्र, श्यामबाबू साहू, राहुल, नवीन साहू आदि द्वारा सहयोग किया जाता है।