स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

किडनी की बीमारी से पीडि़त मरीजों की दवाएं भीग रहीं बारिश के पानी में, प्रबंधन को नहीं होश

Aakash Tiwari

Publish: Sep 19, 2019 08:02 AM | Updated: Sep 18, 2019 21:24 PM

Sagar

-जिला अस्पताल की डायलिसिसि यूनिट के बाजू में बने दवा स्टोर रूम की सीलिंग बारिश में उखड़ी, छत से टपकते पानी के बीच रखी दवाएं।

सागर. डायलिसिस के उपयोग में आने वाली दवाएं जिला अस्पताल में पानी और सीलन के बीच असुरक्षित तरीके से रखी हुई हैं। इस पर जिला अस्पताल प्रबंधन का रवैया बेहद ही हैरान करने वाला है। बारिश के कारण दवा स्टोर की सीलिंग का काफी हिस्सा उखड़ कर गिर गया है। लगातार हो रही बारिश से इस स्टोर रूम की छत से पानी का रिसाव भी हो रहा है। डायलिसिस में उपयोग होने वाली दवाएं पानी में भीग रहीं हैं, लेकिन यह पता होने के बाद भी उन्हें सुरक्षित रखने में प्रबंधन कोई कदम नहीं उठा रहा है। पत्रिका ने जब इस स्टोर रूम का जायजा लिया स्थिति बेहद ही खराब मिली। जहां एक ओर कमरे के अंदर छत से पानी रिसता हुआ दिखाई दिया। वहीं, बिजली फिटिंग में शॉट सर्किट होने की भी आशंका पाई। इस बारे में बात करने के लिए वहां नर्सें भी नहीं थीं। इसके बाद पत्रिका टीम ने प्रमुख जगहों की पड़ताल की तो हालात चौकाने वाले मिले।

-गैलरी की छत से टपक रहा था पानी, वहीं, लेटी थी प्रसूताएं

जिला अस्पताल के गायनी वार्ड इन दिनों फुल चल रहे हैं। कई महिलाओं को गैलरी में भर्ती करना पड़ रहा है। पड़ताल के दौरान जब गैलरी का जायजा लिया तो गैलरी में लाइन से करीब १२ पलंग बिछाए गए थे। इनमें महिलाएं नवजात शिशुओं के साथ लेटी हुई थीं। लेकिन पलंग से थोड़ी दूर छत और खिड़की से पानी टपक रहा था। गंदगी और पानी भरे होने के कारण मच्छर भी गैलरी में थे। इस वजह से नवजात शिशुओं के बीमार होने की आशंका भी थी।

-सीटी स्कैन केंद्र के सामने यही हालत

ट्रामा यूनिट में सीटी स्कैन केंद्र के सामने सीलिंग से भारी मात्रा में पानी का रिसाव हो रहा था। इस जगह पर परिजनों के बैठने के लिए कुर्सियां रखी गई थीं, लेकिन पानी रिसने के कारण परिजन यहां-वहां बैठने मजबूर थे। हालांकि ट्रामा यूनिट में यह कोई पहली जगह नहीं थी। यूनिट के काफी हिस्से वाली सीलिंग से पानी टपकता है। जोड़ वाले हिस्सों से तो भारी मात्रा में पानी टपकता है। बारिश से पूर्व प्रबंधन ने इस ओर ध्यान नहीं दिया। इस वजह से मरीजों को अब खासी परेशानी उठानी पड़ रही है।

-बीएमसी के पीएनसीयू में तिरपाल लगानी पड़ी

बारिश के कारण सिर्फ जिला अस्पताल में ही मरीजों को परेशानी नहीं उठानी पड़ रही है बल्कि बीएमसी में भी वार्डों, गैलरी, ओपीडी पर्ची काउंटर, केज्युअल्टी आदि जगहों से बारिश का पानी भर रहा है। पीएनसीयू की स्थिति एेसी है कि यहां स्टाफ ने सीलिंग पर तिरपाल लगा रखी है। इसके नीचे बैठकर स्टाफ काम करने मजबूर हैं।