स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बारिश न रुकने से टूटने लगी किसानों की उम्मीद, बर्बाद हो गईं फसलें

sachendra tiwari

Publish: Sep 23, 2019 09:15 AM | Updated: Sep 22, 2019 20:33 PM

Sagar

बारिश से नदी, नाले उफान पर

बीना. सितंबर माह बीतने को है, लेकिन बारिश का दौर नहीं थम रहा है। शनिवार की रात से शुरू हुई बारिश सुबह तक होती रही और रात भर में दो इंच से ऊपर बारिश दर्ज हुई। इसके बाद दोपहर में फिर करीब एक घंटे तक तेज बारिश हुई, जिससे अब किसानों की उम्मीदे टूटने लगी है। बारिश के कारण नदी, नाले फिर उफान पर आ गए हैं, जिससे गांवों के रास्ते भी बंद रहे।
लगातार हो रही बारिश से उड़द की फसल बर्बाद ही हो चुकी है और जिन खेतों में पानी भरता है वहां सोयाबीन की फसल भी खराब हुई है, लेकिन थोड़ी ऊंचाई वाले खेतों में अभी भी किसानों को उम्मीद थी कि बारिश खुल गई है तो अब फसल आ जाएगी, लेकिन शनिवार की रात और रविवार को हुई बारिश ने अब यह उम्मीद टूटने लगी है। हालत यह है कि अब जो फसल बची है वह भी खराब हो जाएगी। कुछ किसान तो उड़द का बीज बचाने के लिए पानी भरे खेतों में कटाई कर रहे हैं और बाद में फलियों को तोड़कर बीज निकाल रहे हैं। यदि ऐसा नहीं करेंगे तो बीज भी नहीं बचेगा। वहीं कम दिनों में आने वाली सोयाबीन की फसल भी खराब होने लगी है। यदि बारिश नहीं रुकी तो कुछ दिनों में फल्लियों में अंकुरण होने लगेगा। बारिश के कारण फसल भी बहुत छोटी रह गई है, जिससे फल्लियां भी कम आई हैं। यदि बारिश खुल जाती तो लागत निकलने की उम्मीद थी।
नाले का पानी आया रोड पर, रास्ता हुआ बंद
बारिश के कारण एक बार फिर नदी, नाले उफान पर आ गए हैं और रास्ते बंद रहे। रोड पर पानी आने के कारण ग्राम रुसल्ला, हड़कल जैन, लहरावदा, देवराजी सहित कई गांवों का संपर्क टूट गया था। यहां रविवार दोपहर तक पानी कम नहीं हुआ था। बारिश में कई-कई दिनों तक यह रोड बंद रहता है। ऐसी स्थिति में यदि कोई व्यक्ति बीमार हो जाता है तो उसे इलाज मिलना मुश्किल हो जाता है। गांव के हेमेन्द्रसिंह राय ने बताया कि कई बारि इस संबंध में अधिकारियों से शिकायतें कर चुके हैं, लेकिन समस्या का समाधान नहीं हुआ है। वहीं शहर की मोतीचूर नदी उफान पर आने से रात में देहरी रोड बंद हो गया था। साथ ही नदी में बने डेम के ऊपर पानी सुबह तक रहा।
पुलिस निर्माण समिति ने की बैठक
शनिवार को हुई बारिश के बाद फिर सिलार नदी उफान पर आ गई और गढ़ा, पड़रिया मार्ग बंद हो गया था। रविवार को सिलार पुल निर्माण आंदोलन समिति ने बैठक आयोजित कर निर्णय लिए। जिसमें ग्रामसभा से प्रस्ताव पारित कराकर मुख्यमंत्री, लोक निर्माण मंत्री और प्रभारी मंत्री को भेजा जाएगा। ग्राम पंचायत द्वारा कलेक्टर, जिला शिक्षा अधिकारी को भी पत्र के माध्यम से समस्या से अवगत कराया जाएगा। विधायक से मिलकर फिर एक बार चर्चा होगी और पड़रिया ग्राम पंचायत से ऐसे ही प्रस्ताव बनवाने के लिए प्रयास किया जाएगा।
अभी तक हुई 1470 एमएम बारिश
इस वर्ष बारिश ने पिछले कई वर्षों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। रविवार सुबह 8 बजे तक कुल 1470 एमएम बारिश दर्ज हो चुकी है। जबकि पिछले पांच वर्षों में औसत बारिश भी नहीं हुई थी, लेकिन इस वर्ष जोरदार बारिश नया रिकॉर्ड बनाने वाली है।
केबल टूटी, लगा रहा जाम
रविवार दोपहर स्पार्किंग के बाद खुरई रोड पर एक केबल टूट गई। केबल टूटकर नीचे गिरने से दोनों तरफ जाम की स्थिति बन गई थी, क्योंकि वाहन चालकों को डर था कि यदि वहां से निकले तो करंट लग जाएगा। इसके बाद किसी ने इसकी सूचना बिजली कंपनी के अधिकारियों को दी और कुछ देर बाद सुधार कराया गया।