स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अब 30 से बढ़कर 60 होगी बीएससी नर्सिंग कोर्स की सीटें

Aakash Tiwari

Publish: Aug 19, 2019 08:02 AM | Updated: Aug 18, 2019 20:48 PM

Sagar

-बीएमसी प्रबंधन ने इंडियन नर्सिंग काउंसिल को किया आवेदन, इसी महीने निरीक्षण के लिए आएगी टीम

सागर. बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में ३० सीट से शुरू हुआ बीएससी नर्सिंग कोर्स नए सत्र में ६० सीटों वाला हो सकता है। प्रबंधन ने सीटों में इजाफा करने के लिए इंडियन नर्सिंग काउंसिल को आवेदन किया है। इसी महीने आइएनसी की टीम बीएमसी निरीक्षण करने के लिए आ सकती है। सब कुछ ठीक रहा तो नए सत्र से बीएससी नर्सिंग की सीटें दोगुनी हो जाएंगी। बुंदेलखंड के विद्यार्थियों को यह कोर्स करने के लिए शहर से बाहर नहीं जाना पड़ेगा। बता दें कि संभाग में यह पहला शासकीय कोर्स है, जो पिछले साल बीएमसी में शुरू हुआ था। जहां पहले ही साल में सभी ३० सीटें भर गई थीं।
बीएमसी में ६० विद्यार्थियों के लिए मेस, हॉस्टल, टीचिंग स्टाफ, प्रयोगशालाओं आदि की व्यवस्था है या नहीं। यह जानने के लिए आइएनसी की टीम इसी महीने बीएमसी आ रही है। बताया जाता है कि निरीक्षण के लिए ३ सदस्यीय दल बीएमसी आएगा। जो इन सभी बिंदुओं पर पड़ताल करेगा। इसके बाद रिपोर्ट बनाकर आइएनसी को सौंपेगा। रिपोर्ट में यदि खामी मिलती है तो कम्प्लाइंस रिपोर्ट भेजी जाएगी। यदि इसमें सुधार हो जाता है तभी सीटें दोगुनी हो सकती हैं।

-टीचिंग स्टाफ की है कमी
बीएससी नर्सिंग कोर्स पढ़ाने के लिए अभी ६ शिक्षक हैं। ३० सीटों के हिसाब से शिक्षकों की संख्या पर्याप्त है, लेकिन ६० सीटों के लिए शिक्षकों की संख्या काफी कम है। एेसे में यदि टीम निरीक्षण करने के लिए आएगी तो शिक्षकों की कमी साफ नजर आएगी। एेसे में यह बिंदु सीट संख्या बढऩे की उम्मीद पर पानी फैर सकता है। डीन डॉ. जीएस पटेल ने रविवार को इसी संबंध में हॉस्टल, मेस, वाश रूम का निरीक्षण किया। लेक्चर हॉल, थियेटर रूम, न्यूटीशियन, फंडामेंटल और कम्प्यूटर लैब भी देखे। ६० सीटों के लिए व्यवस्थाएं पर्याप्त पाईं। हालांकि टीचिंग स्टाफ की कमी को दूर करने के लिए उन्होंने जल्द प्रक्रिया शुरू करने की बात कही है।

-अभिभावकों से मिले डीन
हॉस्टल में रहने वाली नई मेडिकल छात्राओं से डीन ने मुलाकात की। इस दौरान छात्राओं के अभिभावक भी वहां मौजूद थे। डीन ने बताया कि हॉस्टल में छात्राओं को कोई परेशानी नहीं होगी। वहीं, रैगिंग को लेकर डीन ने कहा कि अभी तक इस तरह के कोई मामले सामने नहीं आए हैं।