स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

इस विशेष दिन होगा कुंभ का दूसरा शाही स्नान, सबसे पहले स्नान करेगा ये अखाड़ा

Tanvi Sharma

Publish: Feb 03, 2019 18:52 PM | Updated: Feb 04, 2019 14:38 PM

Religion

इस विशेष दिन होगा कुंभ का दूसरा शाही स्नान, सबसे पहले स्नान करेगा ये अखाड़ा

कुंभ में शामिल होने के लिए देश-विदेश से कई लोग आते हैं। विश्व के इस भव्य धार्मिक आयोजन कुंभ मेले में देश के लगभग कई हिस्सों से लोग स्नान करने आते हैं। इस समय प्रयागराज में कुंभ मेला लगा हुआ है। कुंभ का पहला शाही स्नान मकर संक्रांति पर किया गया था वहीं दूसरा शाही स्नान बहुत ही शुभ दिन पड़ने वाला है। माघ मास की कृष्ण पक्ष की अमावस्या के दिन दूसरा शाही स्नान किया जाएगा। वहीं इस बार मौनी अमावस्या और सोमवती अमावस्या का शुभ योग बनने जा रहा है। इस साल यह तिथि 4 फरवरी को पड़ रही है। इसलिए इस दिन स्नान का विशेष महत्व रहेगा। शाही स्नान पर श्रद्धालुओं की सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस ने पुख्ता इंतजाम किए हैं और घाटों की संख्या में भी इजाफा किया गया है।

 

kumbh shahi snan 2019

सबसे पहले स्नान करेगा पंचायती अटल अखाड़ा

शाही स्नान में सबसे पहले पंचायती अटल अखाड़ा स्नान करेगा। यह अखाड़ा प्रात: 6 बजकर 15 मिनट पर शाही स्नान के लिए पहुंचेगा। मेलाअधिकारियों द्वारा बताया गया है की सभी अखाड़े इस खास दिन ब्रह्म मुहूर्त से ही शाही स्नान करने के लिए पहुंच जाएंगे। इसके बाद ही सभी स्नान कर सकते हैं।

इस बार मौनी अमावस्या श्रवण नक्षत्र में पड़ रही है, ज्योतिष के अनुसार इस दिन खास योग बन रहे हैं। अखाड़ों सहित श्रद्धालुओं में भी इस दिन स्नान को लेकर खासा उत्साह होता है। सभी श्रद्धालु पुण्य प्राप्ति के लिए यहां शाही स्नान करने के लिए दूर-दूर से आते हैं। मौनी अमावस्या के दिन मौन रहकर व्रत करने से भी सिद्धि प्राप्त होती है। शास्त्रों के अनुसार इसी दिन शिव भगवान के साथ नारायण अर्थात् विष्णु को प्रसन्न करने के लिए दोनों की पूजा करना सर्वश्रेष्ठ मानी गई है।

 

kumbh shahi snan 2019

दूसरे शाही स्नान के लिए बनाए गए 40 घाट

प्रयागराज कुंभ में शाही स्नान करने के लिए भक्तों का कई हफ्तों पहले से आना शुरु हो जाता है। कुंभ के दूसरे शाही स्नान के लिए लगभग 40 घाटों पर स्नान की व्यवस्था की गई है। वहीं संगम नोज पर स्नान के लिए लगभग 6 किलोमीटर का घाट तैयार किया गया है। मेला प्रशासन ने जानकारी दी है कि लगभग 1000 पुलिसकर्मियों की तैनाती बढ़ाई है। यातायात व्यवस्था बेहतर करने के साथ मेला क्षेत्र में 58 फायर स्टेशन व 96 वॉच टावर भी बनाए गए है।