स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सावन में करोड़पति बनने का है मौका... बचे हैं मात्र सात दिन!

Devendra Kashyap

Publish: Aug 09, 2019 12:24 PM | Updated: Aug 09, 2019 12:36 PM

Religion

Sawan 2019 : हिन्दू धर्म में हर पूजा में अक्षत ( चावल ) जरूरी माना गया है। हर शुभ कार्य में और हर पूजा में चावल का इस्‍तेमाल किया जाता है।

हिन्दू धर्म में हर पूजा में अक्षत ( चावल ) जरूरी माना गया है। हर शुभ कार्य में और हर पूजा में चावल का इस्‍तेमाल किया जाता है। पूजा के कलश पर, चौकी पर, माथे पर तिलक के साथ भी चावल ( rice ) लगाया जाता है। मतलब चावल का उपयोग हिन्दू धर्म में शुभ और जरूरी माना गया है।

प्रसन्न होते हैं भोलेनाथ

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि अक्षत को चावल कहा जाता है। अक्षत का मतलब अखंडित भी होता है। अर्थात शुभ कार्य में खंडित वस्तुओं का उपयोग नहीं किया जाता है। हिन्दू शास्त्रों के अनुसार, सावन महीने ( sawan month ) में भगवान शिव ( Lord Shiva ) पर चावल के मात्र चार दाने चढ़ाने से भोलेनाथ प्रसन्न हो जाते हैं। माना जाता है कि अगर शिव जी पर चावल के चार दाने चढ़ाते हैं तो भोलेनाथ की कृपा से आप धनवान बन सकते हैं।

शिवलिंग पर चढ़ाएं अक्षत

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि सावन महीने में शिव जी की पूजा की महत्ता है। माना जाता है इस महीने में भोलेनाथ की पूजा करने से भगवान शंकर जल्द प्रसन्न होते हैं। अगर सावन सोमवार को शिवलिंग की विधिवत पूजा करते हैं, तो शिवलिंग के पास पूजा पर बैठने से पहले यथासंभव चावल लेकर बैठें। पूजा संपन्न होने के बाद दोनों हाथ में जितने चावल आ जाए, शिवलिंग पर अर्पण कर दें। इसके बाद जो चावल बचे, उसे गरीबों में बांट दें। ऐसा करने से आप पर भोलेनाथ की कृपा बनी रहेगी।

सावन पूर्णिमा को मिलेगा विशेष लाभ

सावन पूर्णिमा पर शुभ मुहुर्त में स्नान करने के बाद लाल रंग का रेशमी कपड़ा लें। उसके बाद चावल के 21 दाने ( ध्यना रहे कि चावल के दाने टूटे ना हो ) को हल्दी में रंग लें। इसके बाद इन 21 दानों के रेशमी कपड़े में बांधकर मां लक्ष्मी के सामने रखकर पूजा करें। पूजा के बाद उसे अपनी तिजोरी में रख दें। ऐसा करने से माता लक्ष्मी की कृपा से धन की प्राप्ति होगी।