स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

ये है दिवाली और छठ की सही व सटीक तिथि, इस बार बहुत ही शुभ योग में होगी छठ पूजा

Tanvi Sharma

Publish: Oct 13, 2019 17:24 PM | Updated: Oct 13, 2019 17:24 PM

Religion

इस शुभ योग में सूर्य पूजा होना बहुत ही अच्छा माना जा रहा है

हर साल कार्तिक माहिने की अमावस्या तिथि को दिवाली मनाई जाती है। इस बार दिवाली 27 अक्टूबर को पड़ रही है। लेकिन इस बार दिवाली को लेकर एक असमंजस्य भी है क्योंकि 28 अक्टूबर को भी अमावस्या तिथि पड़ रही है। वहीं शास्त्रों के अनुसार दिवाली का पवित्र त्योहार अमावस्या तिथि को ही मनाया जाता है। तो अगर आपको भी दिवाली आमावस्या तिथि को लेकर कोई भी असमंजस्य बना है आइए जानते हैं सही व सटीक तिथि और मुहूर्त।

पढ़ें ये खबर- इन लोगों के घर में लक्ष्मी जी नहीं रखतीं कदम, दिवाली के पहले त्याग दें ये चीजें

ये है दिवाली और छठ की सही व सटीक तिथि, इस बार बहुत ही शुभ योग में होगी छठ पूजा

दरअसल, भविष्य पुराण में लिखा है कि-कार्तिके प्रदोषे तु विशेषेण अमावस्या निशावर्धके। तस्यां सम्पूज्येत देवीं भोगमोक्ष प्रदायिनीम्। अर्थात जिस दिन संध्या के समय यानी प्रदोष काल में और मध्य रात्रि में यानी महानिशीथ काल में अमावस्या तिथि हो उसी दिन दीपावली मनाई जाती है। इसलिये 27 अक्टूबर के दिन दिवाली मनाई जाएगी. क्योंकि 28 अक्टूबर को सुबह 9 बजकर 9 मिनट पर अमावस्या तिथि समाप्त हो जाएगी।

पढ़े ये खबर- आज की रात कर लें ये महाउपाय, 7 पीढ़ियों तक किसी को नहीं होगी धन की कमी

ये है दिवाली और छठ की सही व सटीक तिथि, इस बार बहुत ही शुभ योग में होगी छठ पूजा

इस दिन मनाई जाएगी छठ

छठ पर्व बिहार राज्य का प्रमुख त्योहार माना जाता है। इसे दिवाली के छठे दिन बहुत उत्साह व धूम-धाम से मनाया जाता है। इस हिसाब से 1 नवंबर को व्रती खरना करेंगे, जिसमें गुड़ की खीर बनाई जाती है और छठ मैय्या को प्रसाद अर्पित कर व्रत का संकल्प लिया जाता है। इसके बाद 2 नवंबर को सांध्य पूजा कर छठ पर्व मनाया जाएगा और 3 नवंबर को सूर्य को अर्घ्य दिया जाएगा। वहीं ज्योतिषियों के अनुसार सूर्य को अर्घ्य 3 नवंबर सुबह सर्वार्थ सिद्धि योग में दिया जाएगा। इस शुभ योग में सूर्य पूजा होना बहुत ही अच्छा माना जा रहा है।