स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जिसके फूल से नवरात्रि में महारानी का करते हैं श्रृंगार, उसका पत्ता डेंगू, टायफाइड, मलेरिया जड़ से कर देता है खत्म

Devendra Kashyap

Publish: Aug 17, 2019 15:58 PM | Updated: Aug 17, 2019 15:58 PM

Religion

जिसके फूल से नवरात्रि में महारानी का करते हैं श्रृंगार, उसका पत्ता डेंगू, टाइफाइड, मलेरिया जड़ से कर देता है खत्म

बारिश का मौसम ( rainy season ) भले ही सुहाना लगता है लेकिन यह मौसम बीमारियों के संक्रमण के लिए सबसे माकूल होता है। इस मौसम में सर्दी, जुखाम और बुखार सबसे ज्यादा फैलने वाले रोग हैं। दरअसल, बदलते मौसम ( climate change ) में बुखार ( fever ) फैलाने वाले बैक्टीरिया और वायरस बहुत ज्यादा एक्टिव होते हैं। जिस कारण बहुत से लोग इसके चपेट में आ जाते हैं।

इसके बाद लोग डॉक्टर के चक्कर लगाने लगते हैं। इन रोगों का इलाज हमारे आस-पास भी मौजूद होता है लेकिन जानकारी के अभाव में हम डॉक्टर के पास पहुंच जाते हैं। दरअसल, प्रकृति में हर मर्ज का इलाज है लेकिन जानकारी के अभाव में हमे डॉक्टर्स के चक्कर लगाने पड़ते हैं।

harsingar

अक्सर हम लोग नवरात्रि के वक्त महारानी का श्रृंगार फूल से करते हैं। उन फूलों में हरसिंगार पौधा नामक पौधा का भी फूल रहता है। हम जिसे अपराजिता के नाम से भी जानते हैं। अपराजिता के फूल से वैसे तो कई फायदे हैं लेकिन आज हम आपको बताएंगे कि कैसे इसके पत्ते से डेंगू ( dengu ) , टायफाइड ( typhoid ) , मलेरिया ( maleriya ) जैसे बुखार को जड़ से खत्म कर सकते हैं, तो आइये जानते हैं...

harsingar
  1. सबसे पहले अपराजिता का पत्ता घर लाएं। सात या ग्यारह पत्तों को शुद्ध पानी में उबालें।
  2. जब थोड़ा पानी बच जाए तो उसमे काला नमक, काली मिर्च और अदरक डालकर उबालें।
  3. इसके बाद उस पानी को छानकर बुखार से पीड़ित व्यक्ति को पिला दें।
  4. इस प्रकिया को सात दिनों तक करना होगा।
  5. सात दिनों के अंदर किसी भी तरह का बुखार जड़ से खत्म हो जाएगा।
  6. इन सब के अलावा इसके पत्तों का काढ़ा शरीर के सूजन, घुटने-कमर में दर्द को भी खत्म कर देता है।
  7. हरसिंगार पौधा से बना कढ़ा खाली पेट विशेष लाभकारी होता है।