स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

धर्मगुरुओं ने बताया सेहत का राज, कैसा हो संतुलित व समय पर आहार

Gourishankar Jodha

Publish: Sep 21, 2019 22:45 PM | Updated: Sep 21, 2019 22:45 PM

Ratlam

राष्ट्रीय पोषण माह में महिला बाल विकास विभाग का धर्मगुरु सम्मेलन

रतलाम। धर्मगुरुओं ने एक मंच पर पहुंचकर संतुलित और समय पर किस प्रकार से आहार लिया जाए, ताकि आपकी सेहत सदा तरोताजा बनी रहे के बारे में बताया। धर्मगुरुओं ने अपनी सेहत का राज संतुलित एवं समय पर भोजन करना बताया। साथ ही उन्होंने उपस्थित जनों का कहा कि सभी को अपने दैनिक जीवन में दुध एवं केले जो आसानी से उपलब्ध हो जाते है ग्रहण करना चाहिए। समाजजन को जागरूक करने के लिए ऐसे आयोजन समाज में भी होना चाहिए। यह बात महिला एवं बाल विकास विभाग में पोष्टिक, स्वच्छ एवं स्वादिष्ट भोजन का अवलोकन कर ग्रहण भी किया तथा सराहना करते हुए धर्मगुरुओं ने कही।

पोषण माह के अन्तर्गत हुआ आयोजन
महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा पोषण माह का आयोजन 1 से 30 सिंतबर तक विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से किया जा रहा है। इसके अन्तर्गत शुक्रवार को नरसिंह वाटिका परिसर में धर्मगुरु सम्मेलन का अनुठा आयोजन जिला कार्यक्रम अधिकारी सुनिता यादव के निर्देश पर सहायक संचालक अंकिता पंडया के मार्गदर्शन, ऐहतेशाम अंसारी एवं प्रेरणा तोंगडे के नेतृत्व में किया गया। धर्मगुरु सम्मेलन एंव परिसंवाद थीम पर आधारित था, जिसका उददेश्य कुपोषण मुक्त रतलाम का आव्हानपोष्टिक व्यंजनों के माध्यम से करना था। इस अवसर पर विभिन्न संप्रदाय के धर्मगुरु, अखण्ड ज्ञान आश्रम माह मण्डलेश्वर स्वामी देवस्वरूपानंद रतलाम, शहर काजी एहमद अली साहब, मुख्य गुरूद्वारे से ज्ञानीसिंहजी, मुख्य चर्च से फादर जोसेफ मेकडोनल उपस्थित थे।

धर्मगुरुओं का फलों की टोकरी से सम्मान
अतिथि स्वागत जिला कार्यक्रम अधिकारी ने फलों की टोकरी एवं पोषण बेच लगाकर किया गया। स्वागत भाषण जिला कार्यक्रम अधिकारी सुनिता यादव ने दिया गया एवं पोषण माह का उददेश्य बताते हुए पोष्टिक व्यंजन सभी को अपने दैनिक जीवन में उपयोग करने का आग्रह किया है। आंगनवाडी कार्यकर्ताओं द्वारा स्थानीय स्तर पर आसानी से उपलब्ध होने वाली खाद्य सामग्री से पोष्टिक व्यंजन बनाकर प्रदर्शनी लगाई। इस अवसर पर आंगनवाडी कार्यकर्ताएं क्षत्रिय महिलाएं एंव विभागीय पर्यवेक्षक, परियोजना अधिकारी अर्चना माहोर, प्रेरणा तांगडे, मालती शर्मा, ममता तिवारी, विनिता शिंदे आदि उपस्थित थी। आभार सहायक संचालक अंकित पंडया ने माना।