स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

VIDEO रतलाम में बच्चों से भरी स्कूल बस पलटी

Gourishankar Jodha

Publish: Sep 20, 2019 12:17 PM | Updated: Sep 20, 2019 12:17 PM

Ratlam

रतलाम से चोराना गांव बच्चों के लेने गई थी बस

रतलाम। महू-नीमच रोड नोबल इंटरनेशनल स्कूल की बस शुक्रवार सुबह ग्राम चोराना में स्टेरिंग टूटने से सड़क से निचे उतर गई। बस में बच्चे सवार थे, जिन्हे मामूली चोंट आई। जिला परिवहन विभाग और अधिकारियों की अनदेखी के चलते दूसरी बार बस दुर्घटना ग्रस्त हो गई। बच्चों का कहना था कि पहले भी फोरलेन पर इसी बस का टायर फट गया था, उस समय भी बाल-बाल बड़ी दुर्घटना होते हुए बच गई। बच्चों के परिजनों की माने तो स्कूल प्रबंधन शहरी क्षेत्र के लिए अलग और ग्रामीण क्षेत्र के लिए कंडम बसों को उपयोग कर रहे हैं, जिसमें कोई सुरक्षा के इंतजाम नहीं है। स्टेरिंग जो टूटी है वह भी वेल्डिंग की हुई थी। बाद में बच्चों को स्कूल की दूसरी बस में ले जाया गया।

ग्रामीणों ने बताई प्रशासन की लापरवाही
ग्राम चोराना निवासी तुफानसिंह सोलंकी ने बताया कि बड़ा हादसा होते हुए टल गया, किसी बच्चों को अधिक चोंट नहीं आई। स्कूल प्रबंधन की लापरवाही का खामियाजा बच्चों और उनके परिजन क्यों भुगतें, इसके खिलाफ सख्त कार्रवाई होना चाहिए। मैने इस संबंध में सुबह जिला कलेक्टर को भी कई बार फोन लगाया लेकिन उन्होंने उठाया नहीं। नोगांवा जागीर निवासी संजय पाटीदार ने बताया कि बस खराब स्थिति में थी इसलिए पलटी खा गई। शुक्र है बच्चों को अधिक चोंटे नहीं आई। नोबल इंटरनेशनल स्कूल की बस हैं, इस बस में मेरे भी दो बच्चे बैठे हुए थे।

बस पूरी तरह अनफीट है
बस के चारों टायर पूरी तरह से खराब हो चुके हैं, पहले भी बस का टायर फट चुका है। अभी स्टेरिंग फेल हो गई, हाल यह है कि दस-दस साल पुराने बसे ग्रामीण अंचल में चलाई जा रही है। स्पीड गार्वनर नहीं है केवल डीपीएस ट्रेकिंग केवल बस पर लिखा हुआ है, ना ही सीसीटीवी कैमरे तक नहीं है। इसी स्कूल की बस जो अभी बच्चों के लेने आई है वह शहर में चलती है उसकी स्थिति और यह गांव की बस की स्थिति है दोनों की तुलना करेंगे तो पूरी तरह से कंडब गांव में चलाई जा रही है। जिला परिवहन विभाग को बीमा फिटनेस आदि चेक करना चाहिए, इसके बाद ही बस चलाने की परमिशन देना चाहिए, ऐसी खटाला बस स्थिति में बसें चलाई जा रही है, नहीं तो कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है।

क्या कहते स्कूल के विद्यार्थी
सालाखेड़ी नोबल स्कूल के विद्यार्थी शिवम जाट ने बताया कि में पढ़ाई करते है, बस की स्टेरिंग फेल हो गई थी इस कारण एक्सडेंट हो गया। पहले फोरलेन पर भी मरते-मरते बचे थे, बस का टायर फट गया था। रोड पूरी तरह खराब है, बस की हालत बहुत खराब है पहले भी इस संबंध में शिकायत कर चुके हैं कि बस बदलवा दो लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई और आज दूसरी बार दुर्घटना हो गई। सीसीटीवी कैमरा लगा है, लेकिन वह वर्क नहीं करता है। इस संबंध स्कूल प्रबंधन को कई बार बता चुके हैं। गांव में पहुंचाई जा रही बस बहुत खराब है शहर के बच्चों के लिए अच्छी बसें पहुंचाई जा रही है। आठ साल से इसी बस में आना जाना कर रहे हैं।