स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

4 स्थानों पर वैज्ञानिकों ने मशीन से की वायु प्रदूषण की जांच

Chandraprakash Sharma

Publish: Jan 21, 2020 17:52 PM | Updated: Jan 21, 2020 17:52 PM

Ratlam

अभिभाषक ग्वालियरी के नोटिस के बाद पहुंची जांच टीम

रतलाम। शहर में वायु प्रदूषण और सड़कों उड़ती धूल से हो रही बीमारी, अमृतसागर तालाब में आ रहे कॉलोनियों के प्रदूषित पानी को लेकर मध्यप्रदेश प्रदूषण बोर्ड और मुख्यमंत्री को भेजे लीगल नोटिस के बाद सोमवार उज्जैन क्षेत्रिय कार्यालय मध्यप्रदेश प्रदूषण बोर्ड के दो विशेषज्ञ जांच के लिए रतलाम पहुंचे। जांच अधिकारियों ने शहर के चार स्थान बाजना बस स्टैंड, महू रोड रतलाम, वकीम कॉलोनी और औद्योगिक क्षेत्र में मशीनें लगाई गई है। इसके साथ ही अमृतसागर तालाब के गंदे पानी का नमूना लिया गया।
मध्यप्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, वैज्ञानिक आरडी वाघ ने बताया कि शहर के चार अलग-अलग क्षेत्रों में मशीने लगाई गई है, इसमें एक व्यवसायिक क्षेत्र, वाणिज्यक क्षेत्र, रहवासी और शांत क्षेत्र का चयन किया गया है। मशीनें आठ घंटे तक लगातार चलेगी, इसके बाद मशीनों के उपर जो पेपर लगाया उसमें धूल के कण एकत्रित होंगे और इसकी जांच उज्जैन प्रयोगशाला में की जाएगी। इसके बाद दो दिन में जांच रिपोर्ट आएगी। जांच दल में एमएल पाठक भी साथ थे।
निगम स्वास्थ्य अधिकारी से पूछा क्या कर रहे हैं आप
वैज्ञानिक वाघ ने बताया कि अमृतसागर तालाब की स्थिति बहुत खराब है, सीवरेज और कॉलोनियों का पानी एकत्रित होकर सड़ चुका है। निगम स्वास्थ्य अधिकारी से भी बात हुई है। उनसे कहा कि केंद्रीय सरकार की अमृत योजना अन्तर्गत जो काम मिला है तो फिर आप क्या कर रहे हैं, आप जानते है जनता पर इसका कितना खतरनाक असर हो रहा है। एकसम्पवेल बनाकर सीवरेज और कॉलोनियों का पानी एकत्रित कर फिल्टर करेंगे, इसके बाद बगीचे में डाला जाएगा, प्रोजेक्ट रिपोर्ट तो बनाई है।
नोटिस के बाद प्रदूषण बोर्ड के विशेेषज्ञ रतलाम आए हैं
शिकायतकर्ता अभिभाषक प्रशांत ग्वालियरी ने बताया कि रतलाम में हो रहे वायु प्रदूषण व सड़क पर उड़ती धूल से लोग बीमार हो रहे थे इसको लेकर मध्यप्रदेश प्रदूषण बोर्ड, संभागायुक्त, मुख्यमंत्री को लीगल नोटिस भेजा गया था, साथ ही एक डेढ़ माह में कार्रवाई नहीं हुई तो हाई कोर्ट में याचिका लगाई जाएगी। इसी शिकायत के आधार पर विशेषज्ञों की टीम रतलाम आई है जिसने चार स्थानों पर मशीनें लगाकर वायु प्रदूषण की जांच कर रही है। अमृतसागर तालाब का जल खराब हो चुका है और इसी जल का उपयोग आसपास के क्षेत्रवासी भी कर रहे हैं। इस आधार पर वहां का भी सेम्पल लिया गया है।

[MORE_ADVERTISE1]