स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मैं भी सावरकर के मुखौटे लगाकर किया सरकार का विरोध

Chandraprakash Sharma

Publish: Jan 19, 2020 17:31 PM | Updated: Jan 19, 2020 17:31 PM

Ratlam

प्राचार्य के निलंबन को लेकर विरोध: अभाविप के करीब दो दर्जन छात्र नेताओं ने सैलाना बस स्टैंड से शहर सराय तक किया पैदल मार्च

रतलाम। मलवासा हाईस्कूल में बच्चों को वीर सावरकर की फोटो लगी रजिस्टर वितरित करने के मामले में प्राचार्य को निलंबित करने पर चल रहे विरोध प्रदर्शन में शनिवार को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (अभाविप) ने भी नए तरीके से विरोध जताया। अभाविप के छात्र नेताओं ने मुंह पर वीर सावरकर का चित्र लगा मुखौटा पहना और हाथों में मैं भी सावरकर हूं का स्लोगन लिखे फ्लैक्स लेकर विरोध प्रदर्शन किया। इनके पैदल मार्च को कुछ ही दूरी पर जाने के बाद पुलिस ने रोक दिया और ये लोग वापस सैलाना बस स्टैंड आ गए और आंदोलन खत्म हो गया। उधर बिना अनुमति पैदल मार्च निकालने पर डीडीनगर पुलिस ने करीब एक दर्जन छात्र नेताओं को नोटिस जारी किया गया है।
प्रदर्शन को लेकर पुलिस ने बनाया था दबाव
वीर सावरकर के मुखौटे लगाए प्राचार्य के समर्थन में 'मैं भी वीर सावरकर हूंÓ स्लोगन लिखे फ्लैक्स लेकर प्रदर्शन करने वाले अभाविप छात्र नेताओं का कहना है कि पैदल मार्च शुरू होने से पहले पुलिस ने पैदल मार्च नहीं निकालने के लिए दबाव भी बनाया था। छात्र नेताओं पर कार्रवाई करने और रासुका लगाने तक की बात कही गई थी किंतु छात्र नेता प्रदर्शन से पीछे नहीं हटे। दोपहर करीब एक बजे पैदल ही शहर सराय तक गए और अनुमति नहीं होने से पुलिस ने उन्हें रोक लिया तो ये लोग वापस सैलाना बस स्टैंड लौट आए।
शुक्रवार के प्रदर्शन में भी नोटिस जारी
शुक्रवार को वीर सावरकर के समर्थन में भाजपा खेल प्रकोष्ठ की तरफ से मुख्यमंत्री कमलनाथ का पुतला दहन करने के लिए सैलाना बस स्टैंड पर अपराह्न तीन बजे का समय तय था। पुलिस ने उनसे दहन के पहले ही पुतला छिन लिया था। धारा 144 के उल्लंघन करने के मामले में भी करीब पांच लोगों को स्टेशन रोड पुलिस ने नोटिस जारी किया गया है। खेल प्रकोष्ठ के जिला संयोजक यतेंद्र भारद्वाज सहित उनके अन्य साथी हैं। इनसे भी रविवार तक जवाब मांगा गया है।
बिना अनुमति किया प्रदर्शन
शहर और जिले में धारा 144 लगी हुई है और कोई भी प्रदर्शन बिना सक्षम अनुमति के नहीं किया जा सकता है। अभाविप ने शनिवार को वीर सावरकर के मुखौटे लगाकर बिना अनुमति प्रदर्शन किया। प्रदर्शन करने वालों में कुछ की पहचान हो गई है जबकि कुछ की पहचान नहीं हुई है। ऐसे में करीब एक दर्जन लोगों को नोटिस जारी किया गया है। इनसे रविवार की दोपहर दो बजे तक जवाब मांगा गया है। जवाब का इंतजार करेंगे और संतोषजनक जवाब नहीं मिलने पर कार्रवाई की जाएगी।
-वीडी जोशी, थाना प्रभारी डीडीनगर, रतलाम

[MORE_ADVERTISE1]