स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

करते थे जो जमीन पर हुकुमते, वो भी जमीन की खुराक हुए

Mukesh Mahawar

Publish: Aug 19, 2019 18:01 PM | Updated: Aug 19, 2019 18:01 PM

Ratlam

हजरत ख्वाजा दादा खुदा सैयद दरगाह शरीफ पर 12 जोड़ों का नि:शुल्क सामूहिक निकाह

रतलाम. जश्ने गोशिया कमेटी द्वारा मित्र निवास रोड स्थित हजरत ख्वाजा दादा खुदा सैयद दरगाह शरीफ परिसर में दो दिवसीय उर्स का आयोजन किया गया। पहले दिन रात कव्वाली का आयोजन हुआ, जिसमें मशहुर कव्वाल छोटे मजीद शोला ने देर रात तक कलाम पेश कर खूब वाह वाही लूटी। कव्वाल छोटे मजीद शोला ने ख्वाजा गरीब नवाज व हजरत खुदा सैयद की शान में कई कलाम पेश कर वाह वाही लूटी।
कव्वाल ने कव्वाली व शेर-अ-शायरी और गजलों संगम पेश कर समां बांध दिया। उन्होंने कुछ इस तरह गजल पेश की कि... पैदा हुए ये खाक से फिर खाक हो गए... करते थे जो जमीन पर हुकुमते, वो भी जमीन की खुराक हुए। खुशी ये ही कि मेरे घर से फोन आया है... सितम ये है कि मुझे खेरियत बताना है, नमाज मैं पढ़कर ढूंढता रहा... यहां कोई मुझे अपना गले लगा ले। जी तो कहता है कि बिस्तर से उंठू न कई रोज, घर में सामान तो हो बैठकर खाने के लिए... नफरत बेचने वालों की भी मजबूरी है, माल तो चाहिए दुकान चलाने के लिए।


कव्वाली देर रात तक चलता रहा। इस अवसर पर समाजसेवी ब्रजेंद्र शर्मा झाबुआ, जावेद कुरैशी कुक्षी, मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के सचिव मंसूर अली पटौदी, एडवोकेट सुनील पारिख, समाजसेवी रईस एहमद मेव, मुश्ताक खान, गट्टू भाई, आशीष तिवारी, चांद खान, शाकीर शाह, जावेद खान सहित बड़ी संख्या में श्रोता उपस्थित थे।

नि:शुल्क सामूहिक निकाह
दूसरे दिन 18 अगस्त को सुबह नि:शुल्क सामूहिक निकाह कार्यक्रम रखा गया। इसमें मध्यप्रदेश व राजस्थान के 12 जोड़ों का निकाह कराया गया। निकाह शहर काजी एहमद अली व हाफिज आबिद हुसैन ने पढ़ाया। दूल्ह-दूल्हनों को कमेटी की तरफ से दस-दस हजार रुपए की घरेलू सामग्री व जेवर उपहार में दिए गए। इस अवसर पर मुख्य अतिथि कांग्रेस नेता खुर्शीद अनवर, सैयद शोकत अली सरकार, समाजसेवी भरत राठौड़, शेरू पठान, अंजूमन के पूर्व सदर सईद कुरैशी, कमेटी के सदस्य सैयद अफसार अली, मोहब्बत अली, एहमद अली, आवेश अली, मोहम्मद मियां, शाहीद अली फिरोज खान उपस्थित थे।