स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अरनियापीथा मंडी में अव्यवस्था से परेशान हो रहे किसान

Akram Khan

Publish: Jul 20, 2019 17:26 PM | Updated: Jul 20, 2019 17:26 PM

Ratlam

अरनियापीथा मंडी में अव्यवस्था से परेशान हो रहे किसान

रतलाम। एशिया की टॉप मंडिया में शामिल अरनीयापीथा स्थित कृषि उपज मंडी होने वाले विवाद, किसानों, व्यापारियों और हम्मालों के होने वाली समस्याअेंा अव्यवस्थाओं की पड़ताल करने शुक्रवार को पत्रिका टीम सुबह कार्यालयीन में समय में मंडी कार्यालय पहुंची तो वहंा मंडी सचिव सहित कई अधिकारी व कर्मचारी नदारत पाए गए। हालाकि चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी जरुर मिले, लेकिन उन्है भी साहब लोगों के आने का सही समय पता नहीं रहता है। इसी बीच किसान और व्यापारी मंडी कार्यालय के चक्कर लगाते रहे। तय समय से करीब पौन घटा देरी से कुछ कर्मचारी मंडी पहुंचे वहीं करीब साढे बारह बजे तक मंडी सचिव नहीं पहुचें थे।

शुक्रवार को सुबह 10.15 बजे पत्रिका टीम अरनीयापीथा स्थित मंडी कार्यालय पहुंची। पहले मंडी प्रांगण में टीम ने जायजा लिया और उसके बाद मंडी कार्यालय की और रुख किया। मंडी कार्यालय का समय सुबह 10.30 से शुरु होता है, लेकिन शुक्रवार को सुबह 10.30 बजे तक कोई भी अधिकारी व कर्मचारी नहीं पहुंचा था और ना ही कार्यालय के ताले ही खुले थे। हालाकि मंडी सचिव का चेम्बर खुला था, लेकिन कुर्सी खाली थी। सचिव के चेम्बर के पास मौजुद निर्माण शाखा, केशियर रुम, अनुज्ञा शाखा, आवक जावक शाखा, स्टोर पर भी ताले लगे थे, इन कार्यालयों में बैठने वाले अधिकारी तय समय पर नहीं पहुंचे थे। हालांकि कार्यालय में भृत्य के पद पर पदस्थ महिला कर्मचारी व कुछ भृत्य प्रांगण में बैठे थे, जिनसे अनायास ही प्रतिनिधि ने साहब से मिलने के लिए का समय पूछा तो उन्होंने तपाक से कह दिया कि साहब तो 12 बजे तक ही आते है, वहीं अन्य अधिकारी भी 11 बजे बाद ही मिलेंगे।

पौन घंटे बाद पहुंचने लगे अधिकारी व तय समय से पौन घंटे बाद
करीब 11 बजे मंडी में अलग अलग विभागों पर लगे ताले खुलने लगे और एक एक करके अधिकारी व कर्मचारी पहुंचने लगे, करीब 11 बजकर 15 मिनट तक कुछ अधिकारी व कर्मचारी पहुंचे, लेकिन दोपहर करीब 12 बजकर 30 मिनीट तक भी मंडी सचिव एमएस मुनिया कार्यालय में नहीं पहुचे थे, वहीं निर्माण शाखा में बैठने वाले इंजिनियर रूनिज भी अपने चेम्बर में नहीं थे, जब उनके कार्यालय से तलाश निकाली तो पता चला की इंजिनियर साहब साइड पर है, जबकि मंडी में चल रहे निर्माण कार्यो की एक भी साइट पर इंजिनियर साहब मौजुद नहीं थे, जब उनका मोबाइल लगाया तो वह भी नेटवर्क कवरेज से बाहर था। इधर मंडी सूत्रो की माने तो मंडी सचिव प्रति शनिवार और रविवार को उज्जैन में ही निवास करते है और सोमवार को दोपहर तक ही अपने कार्यालय में पहुंचते है।