स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जब महात्मा गांधी ने रतलाम में कही थी ये बड़ी बात

Ashish Pathak

Publish: Sep 20, 2019 13:20 PM | Updated: Sep 20, 2019 13:24 PM

Ratlam

Mahatma Gandhi In Ratlam Madhya Pradesh : आगामी 2 अक्टूबर 2019 को पूरा देश महात्मा गांधी की 150वीं जयंति मनाएगा। यह बात कम को पता है कि 1931 में गांधी जी व देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू रतलाम आए थे। यहां पर करीब 20 मिनट तक महात्मा गांधी ने रेलवे स्टेशन पर सभा की थी।

रतलाम। Mahatma Gandhi In Ratlam Madhya Pradesh : आगामी 2 अक्टूबर 2019 को पूरा देश महात्मा गांधी की 150वीं जयंति मनाएगा। यह बात कम को पता है कि 1931 में गांधी जी व देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू रतलाम आए थे। यहां पर करीब 20 मिनट तक महात्मा गांधी ने रेलवे स्टेशन पर सभा की थी। महात्मा गांधी को सुनने के लिए न सिर्फ रतलाम, बल्कि आसपास से भी हजारों लोग उमड़े थे। रतलाम रेलवे स्टेशन पर महात्मा गांधी ने कहा था कि रतलाम पूरे देश के लिए प्रेरणा बनेगा, क्योंकि यहां के लोग मिलजुलकर रहते है।

MUST READ : बैंक हड़ताल : कामकाज रहेगा ठप, अभी करें जरूरी काम

mahatma gandhi

नेहरू जी ने किया था याद

भाटी के अनुसार उनके पिता की डायरी में इस बात का उल्लेख है कि स्वतंत्रता आंदोलन में गुजरात व महाराष्ट्र जाते समय नर्द दिल्ली से जब महात्मा गांधी व पंडित नेहरू ट्रेन से निकले तो पूर्व सूचना के आधार पर काफी भीड़ हो गई। यहां तक की जब महात्मा गांधी अपने डिब्बे से बाहर आए तो भारत माता की जय के जमकर नारे लगाए गए। हालात ये हो गई की पंडित नेहरू को ये कहना पड़ा की महात्मा गांधी जी आप लोगों को महत्वपूर्ण बात कहना चाहते है। आप लोग इनकी बात पर ध्यान दों। इसके बाद भी नारें लगते रहे।

MUST READ : रतलाम के तीन युवक माही नदी में डूबे

Gandhi Death Anniversary: story of mahatma gandhi son abdullah
IMAGE CREDIT: Patrika

पिताजी से जब मिले महात्मा गांधी

भाटी ने बताया कि बाद में रेलवे स्टेशन पर ही पङ्क्षडत नेहरू ने पिताजी को याद किया। हजारों की भीड़ में से पिताजी को बुलाया गया। इसके बाद पंडित नेहरू ने महात्मा गांधी जी से पिताजी को मिलवाया व रतलाम में चल रहे स्वतंत्रता आंदोलन के बारे में पूरी जानकारी ली। महात्मा गांधी ने साथियों के बारे में सवाल किया। इसके बाद रतलाम की सद्भावना की जमकर तारीफ महात्मा गांधी जी ने की। इतना ही नहीं, गांधी जी ने कई बार देश में इस बारे में बताया कि रतलाम सबसे बेहतर शहर है, यहां पर सभी मिलजुलकर रहते है।

MUST READ : एक रोटी के लिए 90 मिनट इंतजार

mahatma gandhi death anniversary 2019 real story
IMAGE CREDIT: lali koshta

बाद में सुभाष भी आए थे रतलाम

भाटी ने बताया कि करीब 20 मिनट तक ट्रेन स्टेशन पर रही, हालांकि पिताजी की डायरी में इस बात का उल्लेख नहीं है कि वो ट्रेन कौन सी थी, लेकिन महात्मा गांधी व पंडित नेहरू जी के बाद आंदोलन के बारे में जानकारी लेने के लिए सुभाषचंद्र बोस भी रतलाम आए थे। यहां पर पूरा दिन रहने के बाद उन्होंने प्रयास किया था कि उनको कुछ लड़के उनकी सेना के लिए मिल जाए। बता दे कि महात्मा गांधी ने कई बार रतलाम का उल्लेख अपने जीवन में किया है।

MUST READ : VIDEO मध्यप्रदेश में रतलाम से लेकर मंदसौर तक मंत्रियों का विवाद

सर्वपितृ अमावस्या 2019 : कुंडली में है पितृ दोष तो करें यह आसान उपाय

सूर्य ग्रहण 2020 : दो ग्रहण बनाएंगे युद्ध के हालात

VIDEO मध्यप्रदेश के रतलाम में तालाब फूटा, मकान गिरा, एक महिला की मौत

VIDEO रतलाम मेंं बारिश: 1500 मकान टूटे, 4 हजार से अधिक लोगों का रेस्क्यू

Seminar on Mahatma Gandhi