स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कलेक्टर के निर्देश हवा...किसानों को नहीं मिल रहा यूरिया

Gourishankar Jodha

Publish: Dec 05, 2019 12:42 PM | Updated: Dec 05, 2019 12:42 PM

Ratlam

सैलाना में अब तक नहीं हुआ यूरिया नगद में बिक्री केंद्र शुरू, गुणावद और पलसोडा के किसान परेशान होकर शाम को लौट गए घर

रतलाम। जिला कलेक्टर के निर्देश पर यूरिया की मारामारी और किसानों को आ रही परेशानी को देखते हुए जिले में पिछले माह सात केंद्र खोलने के निर्देश मिले थे, लेकिन सैलाना में केंद्र आज तक शुरू नहीं हो पाया और दूसरी तरफ रतलाम दिलीप नगर में पिछले तीन दिन से किसानों को यूरिया नहीं मिल रहा है। जबकि कृषि विभाग दावा कर रहा है कि जिले में यूरिया की कमी नहीं है और लगातार रेंक लग रही है, तो फिर यूरिया जा कहा रहा है। जिले के ऐसे किसान जो कालातीत (ओवरड्यू) एवं समिति के सदस्य नहीं है, उन्हे रबी सीजन में उर्वरक का विक्रय हो, इसके लिए जिला प्रशासन ने यूरिया एवं डीएपी, एनपीके खाद के लिए रतलाम सहित सात केंद्र बनाए थे, ताकि किसानों को बाजार से अधिक दाम में यूरिया नहीं खरीदना पड़े, लेकिन पिछले दो दिन से दिलीप नगर यूरिया वितरण केंद्र पर खाद ही नहीं है। किसान सुबह से शाम तक चक्कर लगा रहे हैं, जिन्हे या तो बिरियाखेड़ी पहुंचाया जा रहा है या फिर मना कर दिया जा रहा है कि खाद नहीं है।

बाजार में कालाबाजारी चरम पर विभाग नहीं दे रहा ध्यान
बुधवार को ग्राम को ग्राम गुणावद और पलसोड़ा के तीन-चार किसान आधार-पावती की फोटो कॉपी लेकर दिलीप नगर केंद्र पर पहुंचे, लेकिन उन्हे खाद नहीं मिला। किसान विकास जाट एवं रमेश जाट ने बताया कि दुकान पर तो 300 रुपए में दे रहे हंै, इसलिए मंडी आए थे यहां से दिलीप नगर केंद्र पर यूरिया लेने आ गए तो यहां भी नहीं दे रहे हैं। पलसोड़ा से आए मांगीलाल माली ने बताया कि निजी जमीन के अलावा मुनाफे की भी ले रखी है इसलिए खाद की अधिक आवश्यकता है, और दिलीप नगर केंद्र पर दो बोरी भी नहीं मिल रही है। किसानों ने कृषि उप संचालक जीएस मोहनिया को फोन लगाया, इसके बाद उन्हे रतलाम विकासखंड कृषि अधिकारी बीएम सोलंकी के नंबर दिए गए। इनसे भी बात कर किसानों ने शिकायत की कि दिलीप नगर में खाद नहीं दे रहे हैं।

आया यूरिया सोसायटियों में भेज दिया, यहां नहीं है
दिलीप नगर गोडाउन प्रभारी गुप्ता ने बताया कि खाद बिरियाखेड़ी प्रति किसान दो बोरी दिया जा रहा है। दिलीप नगर जो खाद आया था वह सोसायटियों में चला गया। इसलिए खाद नहीं दे रहे हैं और केंद्र पर लिख भी दिया है कि यहां यूरिया उपलब्ध नहीं है। गुप्ता ने पूछा की कौन सी सोसायटियों से हो, किसानों ने कहा कि बरबोदना के है, तो बोले की वहां गई है यूरिया की गाड़ी। इस पर किसानों ने कहा कि नगद में कहां दे रहे हैं, इसलिए तो यहां आए है। इस पर गुप्ता ने कहा कि पावती है कल पावती लेकर बिरियाखेड़ी आ जाना वहां दो बोरी यूरिया मिल जाएगा।

8 रैक आना है, 700 मीट्रिक टन रतलाम को मिल गया
एक यूरिया की रैक 1489 मीट्रिक टन की लगी है। इसमें से 700 मीट्रिक टन रतलाम को मिला है। अब तक जिले में कुल भंडारण 2500 मीट्रिक टन खाद उपलब्ध है। इसी माह 8 रैक और लगने वाली है। इसलिए खाद की किल्लत नहीं रहेंगी। किसानों के फोन आएं थे कि दिलीप नगर में यूरिया नहीं दे रहे हैं। जानकारी लेते है कि कितना यूरिया आ रहा है और कितना वितरण हुआ, क्यों किसानों को नहीं दे रहे हैं।
जीएस मोहनिया, उपसंचालक कृषि रतलाम

अमानक स्तर का उर्वरक बेचने पर दो व्यापारी लाइसेंस निरस्त
जिले में गुणवत्ता नियंत्रण अभियान सतत जारी है। निरीक्षण दलों द्वारा सतत नमूने लिए जाकर प्रयोगशाला में जांच के लिए भेजे जा रहे हैं। प्राप्त रिजल्ट के आधार पर कार्रवाई की जा रही है। इस क्रम में उप संचालक कृषि एवं लाइसेंस अथॉरिटी ज्ञानसिंह मोहनिया ने कार्रवाई करते हुए अमानक उर्वरक विक्रय करने पर जिले की दो व्यापारिक प्रतिष्ठानों के लाइसेंस निलंबित कर दिए हैं। जानकारी में बताया गया है कि प्रयोगशाला से प्राप्त रिपोर्ट के आधार पर ग्राम शिवगढ़ के मैसर्स गुर्जर कृषि सेवा केंद्र तथा मैसर्स जय एग्रो एजेंसी के लाइसेंस निरस्त किए गए हैं।

[MORE_ADVERTISE1]