स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पानी से ऐसी तबाही, पीने के पानी को तरसे

Gourishankar Jodha

Publish: Sep 15, 2019 12:58 PM | Updated: Sep 15, 2019 12:58 PM

Ratlam

शिकायत के बावजूद नहीं दे रहे जिम्मेदार ध्यान

रतलाम। जहां बारिश एक तरफ कोहराम मचा रही है, वहीं दूसरी तरफ मध्य प्रदेश के एक जिले में लोगों को पीने के पानी के लिए तरसना पड़ रहा है। हाल यह है कि लगातार जिले में अतिवृष्टि को दौर जारी है। शहर के कई वार्डों में लोगों को पीने के लिए पानी नहीं मिलना नगर निगम में बैठे जिम्मेदारों की कार्यप्रणाली प्रश्रचिन्ह खड़े कर रहा है। नगर निगम की जल प्रदाय व्यवस्था रामभरोसे चल रही है, लोगों को बारिश के दिनों में भी पीने का पानी नसीब नहीं हो रहा है, जहां कहीं आ रही है वहां ढोला पानी पीने को मजबूर है। कहीं कहीं तो दो-तीन दिन तक नल नहीं आ रहे हैं।

ऐसा ही मामला शनिवार सुबह वार्ड नं 5 विनोबा नगर सेक्टर ए और दीनदयाल नगर, हिम्मत नगर में सामने आया। जहां के रहवासियों ने बताया कि परेशान हो गए है, समय पर पानी नहीं मिल रहा। इसके विरोध स्वरूप नगर निगम और क्षेत्रिय पार्षद के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर विरोध जताया। क्षेत्रवासियों का कहना था कि कई बार पार्षद को शिकायत की, लेकिन आज तक सुनवाई नहीं हुई।

तीन-चार दिनों से नहीं आ रहा पानी
विनोबा नगर सेक्टर एक शकुंतला बघेल, किरण जोशी, उषासिंह, तारा मालवीय सहित बड़ी संख्या में एकत्रित हुई महिलाओं का कहना था कि हाल यह है कि पिने के लिए पानी कभी तीन दिन तो कभी दो दिन में नहीं मिल रहा है। दो-तीन दिन आता भी है तो सिर्फ 5-10 मिनट चलने के बाद नल चले जाते हैं। घर के चार बर्तन भी नहीं भर पाते। दूसरी और सीवरेज लाईन वाले रोड खोद कर गए, इसे सुधार भी किया पर रोड पर थोड़े ही दिन बाद वापस बड़े-बड़े गड्ढे हो गए। सामने बगीचे की जगह है पर वहां ना तो कोई जा सकता है ना ही वहां लाइट है। पूरा बगीचा जंगल हो रहा है। रहवासियों द्वारा वार्ड पार्षद इंदु गोखरू को कई बार शिकायत की पर वह इस कॉलोनी की परेशानियों को देखने को तैयार नहीं है।

4 दिन से पानी नहीं आया नलों में
दीनदयाल नगर निवासी गोपाल सोनी ने बताया कि इतनी बारिश होने के बावजूद शहरवासी पिने के पानी को तरस रहे हैं। दीनदयाल नगर औ हिम्मतनगर क्षेत्र के नलों में विगत 4 दिन से पानी नहीं आ रहा है। नगर निगम में बैठे जिम्मेदारों को फोन लगाओं तो उठाने को तैयार नहीं है और उठा लेते है तो सही जवाब नहीं दे रहे हैं। जबकि दीनदयाल नगर में टंकी भी बनाई जा चुकी है, इसके बावजूद लोग बरसात में पानी को तरस रहे हैं।