स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

किराए के रूप में मकान मालिक को बच्चों की बैंक के दिए 2000 के नोट

Chandraprakash Sharma

Publish: Sep 16, 2019 17:27 PM | Updated: Sep 16, 2019 17:27 PM

Ratlam

मकान मालिक रुपए लेकर दुकान पर सामान खरीदने गया तो दुकानदार ने कहा बच्चों के नोट क्यों दे रहे हो, तब पता चला

रतलाम। कोई आपको दो-दो हजार के नोट दे तो जरा संभलकर लेना। पहले उन्हें अच्छी तरह से चेक कर लेना कि ये नोट भारतीय रिजर्व बैंक के ही है और असली हैं तो ही लेना वरना आदर्श कल्याणनगर निवासी एक व्यक्ति के साथ जो हुआ है वह आपके साथ भी हो सकता है। जी हां यह हुआ है एक मकान मालिक के साथ। किराएदार ने उसे पहले तो कुछ माह का किराया नहीं दिया और जब एक साथ राशि दी तो बच्चों की बैंक के दो-दो हजार के सात नोट थमा दिए। मकान मालिक ने भी चेक नहीं किया और जेब में रखकर ले आया। जब वह किसी दुकान पर सामान खरीदने पहुंचा तो उसे इन नोटों की असलीयत पता चली। अब पुलिस ने धोखा देने के आरोप में एक युवक को गिरफ्तार किया है।
यह है मामला
आदर्श कल्याण नगर में रहने वाले नाथूलाल पिता शंकरलाल पाटीदार उम्र 45 वर्ष का मकान सैनिक कालोनी में भी है। उक्त मकान खाली होने से बबलू पिता हरिदास बैरागी निवासी टाटानगर किराए से लेने उनके पास पहुंचा। युवक को वह पहले से जानता था इसलिए एग्रीमेंट करवाकर मकान 23 अप्रैल 2019 को 4500 रुपए प्रतिमाह के किराए पर दे दिया। पहले महीने किराया नहीं दिया और कहा अगले माह दे देगा। ऐसा करते हुए तीन माह बीत गए। आखिरकार 27 जुलाई को मैं उसके यहां किराया लेने पहुंच गया। उसने किराए के रूप में दो-दो हजार के सात नोट दिए। पाटीदार ये नोट जेब में रखकर खुशी से घर पहुंच गए। इन नोटों से वे दुकानदार के पास पहुचे और सामान खरीदने लगे तो बच्चों की बैंक के नोट देखकर दुकानदार ने उन्हें टोक दिया। इससे उसके होश उड़ गए। वह बबलू बैरागी के पास पहुंचे कि तुमने बच्चों की बैंक के नोट दे दिए हैं तो उसने मकान किराया देने से ही मना कर दिया। यही नहीं धोंस दी कि थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई तो जान से हाथ धो बैठोगे। पाटीदार को पता था कि बबलू के खिलाफ पूर्व में कई केस थानों में दर्ज है इसलिए वह डर गया पुलिस ने नाथूलाल की रिपोर्ट पर आरोपी बबलू के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।