स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

यहां का यूरिया, अन्य जिलों के किसानों को नगद में दे दिया

Gourishankar Jodha

Publish: Dec 06, 2019 12:43 PM | Updated: Dec 06, 2019 12:43 PM

Ratlam

मध्यप्रदेश के इस जिले मेंं अब भी यूरिया की मारामारी खेत की पावती और यूरिया की जुगाड़ में भटक रहा किसान

रतलाम। शासकीय यूरिया वितरण केंद्र से अन्य समीपस्थ जिलों के किसानों के वारे न्यारे हो गए। रतलाम जिले के किसानों को मिलने वाला यूरिया इन दिनों सरकारी बिक्री केंद्रों से अन्य जिलों में जा रहा है। शहर के दोनों वितरण केंद्र दिलीप नगर और बिरियाखेड़ी नगद बिक्री गोडाउन प्रभारी मात्र पावती और आधार कार्ड देख कोई भी किसान आए उसे प्रति पावती दो बोरी यूरिया दे रहे हैं। उज्जैन-धार जिले के किसान भी चार-पांच लेकर केंद्रों से यूरिया ले जा रहे है। शहर सहित अंचल के किसान अब भी यूरिया की मारामारी के चलते दिलीप नगर से बिरियाखेड़ी और गांव-गांव यहां से वहां पावती के लिए भटक रहे हैं।

लापरवाही कारण बताओं नोटिस देंगे
उपसंचालक कृषि द्वारा दिलीप नगर और बिरियाखेड़ी यूरिया वितरण केंद्र प्रभारी के लापरवाही के कारण कारण नोटिस दिया जा रहा है। किसानों की माने तो केंद्र समय पर खुलता नहीं दो-तीन दिन से यूरिया मिल नहीं रहा था, किसाानों के मुंह से शहर की दुकानों से लेकर ग्रामीण अंचल में संचालित निजी दुकानदार 300 से 350 रुपए में यूरिया प्रति बोरी देने की चर्चा दोनों केंद्रों पर आम हो गई है। दिलीप नगर केंद्र पर दोपहर बाद कुछ किसानों को यूरिया वितरण किया गया, तो किसानों का कहना था कि 72 रुपए में एक बोरी दी गई और कुछ देर बात वहां भी खाद खत्म हो गया, इसके बाद हम लोग बिरियाखेड़ी आ गए।

जिले में 24553 मे. टन यूरिया वितरण 1987 मे.टन शेष
उप संचालक कृषि जीएस मोहनिया ने बताया कि शासन के निर्देशानुसार अब निजी क्षेत्रों में 20 साल जिले में रबी सीजन के अन्तर्गत 42000 मेट्रिक टन यूरिया की तुलना में अब तक २६५४० मेट्रिक टन यूरिया भंडारित किया गया है, 24553 मेट्रिक टन का वितरण हो चुका है। शेष 1987 मेट्रिक टन खाद का भंडारण है। प्रायवेट में 350 मेट्रिक टन यूरिया शेष बता है। 1637 मेट्रिक टन के करीब सरकारी केंद्रों पर जमा है। दिसंबर माह में 8 रेंक लगने वाली है। किसान भाई जहां से भी यूरिया ले रहे हैं बिल एवं पीओएस मशीन के माध्यम से ही प्राप्त करें।

चार यूरिया बिक्री केंद्र और बढ़ाए
रतलाम दिलीप नगर, बिरियाखेड़ी, जावरा, आलोट, ताल, पिपलौदा और सैलाना के अलावा अब प्राथमिक साख सहकारी समिति मर्यादित खारवांकला आलोट, विपणन सहकारी संस्था मर्यादित आलोट, प्राथमिक सहकारी समिति मर्यादित बड़ावदा जावरा, प्राथमिक साख सहकारी समिति मर्यादित नांदलेटा, पिपलौदा पर भी किसानों को यूरिया नगद में मिलेगा। किसान को भू-अधिकार पुस्तिका, आधार आईडी लेकर स्वयं उपस्थित होने पर ही यूरिया प्रति हेक्टेयर प्रथम बार 2 और दूसरी बार 2 बेग प्रति देय होगा। जिले में कुल 327 पीओएस मशीन विभिन्न फर्मों के पास उपलब्ध है। रिटेलर से किसानों को विक्रय करने वाला उर्वरक मशीन के माध्यम से विक्रय करना हैं. आकस्मिक निरीक्षण के दौरान ऐसी स्थिति में निर्मित होने के दौरान बगैर मशीन के विक्रय करते पाए जाने पर तत्काल संबंधित फर्म पर करते हुए लाइसेंस निलंबन की कार्रवाई की जाएगी।

दिलीप नगर यूरिया वितरण केंद्र गोडाउन प्रभारी को नोटिस दिया जाएगा
दोनों केंद्रों की जांच की गई, उज्जैन जिले के किसानों को खाद वितरण किया जा रहा था, रतलाम जिले के किसानों को देने के लिए केंद्र खोले गए है। जो भी किसान अपनी पावती लेकर स्वयं खाद लेने आएगा, उसको भू-अधिकार पुस्तिका भाग एक एवं दो साथ में लेकर आना, इसी आधार पर खाद दिया जाए। दिलीप नगर यूरिया वितरण केंद्र प्रभारी गोडाउन प्रभारी को हिदायत देकर नोटिस जारी किया जा रहा है।

जीएस मोहनिया, उप संचालक कृषि रतलाम

[MORE_ADVERTISE1]