स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मध्यप्रदेश की इस मंडी में आया नया सोयाबीन, पर नहीं बिका

Gourishankar Jodha

Publish: Sep 21, 2019 22:25 PM | Updated: Sep 21, 2019 22:26 PM

Ratlam

अनाज में मंडी नये सोयाबीन का बिगड़ा मुहूर्त सौदा

रतलाम। मध्य प्रदेश के कई जिले अतिवृष्टि के चपेट में है, जहां बड़ी संख्या में किसानों की सोयाबीन फसल खराब हो चुकी है। एक-दो दिन खुले मौसम को देखते हुए एक किसान ने जैसे तैसे अपनी सोयाबीन काटकर निकाली और मंडी लेकर पहुंचा, लेकिन निलामी में उम्मीद से बहुत कम 1701 रुपए प्रति क्विंटल तक भाव मिलने से मायूस हो गया, आखिरकार उसने अपनी उपज नहीं बेची और घर ले गया। इस दौरान जनचर्चा होती रही कि मुहूर्त के सौदा बिगड़ गया, आगे रामजाने क्या होगा। क्योंकि वैसे भी जिले में अधिकांश सोयाबीन की फसल खराब हो चुकी है और हर दिन पानी बरस रहा है। वैसे भी नई सोयाबीन 12-15 दिन बाद आई थी वह भी घर चली गई।

पुराने सोयाबीन के भाव 3935 रुपए क्विंटल
मिली जानकारी के अनुसार वैसे सोयाबीन के भाव मंडी में शुक्रवार को 3650 से 3935 रुपए प्रति क्विंटल तक रहे, लेकिन ग्राम पल्दूना से आए किसान जो एक ट्राली में नई सोयाबीन लाया था। निलामी के दौरान सोयाबीन में नमी और दागी होने के कारण भाव मात्र १७०१ रुपए प्रति क्विंटल तक ही लगा। सोयाबीन नमी युक्त होने के साथ ही दागिली भी थी। इस कारण से भाव कम लगा। मंडी प्रांगण प्रभारी मुकेश ग्रेवाल ने बताया कि मेघा ट्रेडर्स द्वारा निलामी में खरीदी थी, लेकिन किसान ने बेची नहीं।

सोयाबीन खराबे का रकबा बढ़ रहा
लगातार हो रही बारिश से दिन पर दिन सोयाबीन खराबे का रकबा बढ़ता जा रहा है। शुक्रवार तक 1 लाख 35 हजार से अधिक क्षेत्र में सोयाबीन की फसल अतिवृष्टि से प्रभावित होने का आंकलन किया गया। कृषि, राजस्व, बीमा कम्पनी के कर्मचारी सर्वे कार्य में लगे हुए है। बारिश रूकने का नाम नहीं ले रही है, कृषि अधिकारियों की माने तो सबसे अधिक नुकसान जल्द आने वाली किस्म पर हो रहा है। इसमें जलभराव, कीटव्याधी के साथ ही अफलन की शिकायतें भी है। व्यापारी मनोज जैन ने बताया कि बारिश के कारण आने वाले समय में यही स्थिति रहती है तो सोयाबीन के भाव में तेजी का रूख रहेगा। अब तक नई सोयाबीन मंडी में आना शुरू हो जाती है।

फिर रूकी प्याज नीलामी
प्लेटफार्म से प्याज व्यापारी द्वारा प्याज नहीं हटाने के कारण अनाज मंडी व्यापारियों को परेशानी का सामना करना पडा। इस कारण कुछ देर प्याज नीलामी फिर रूकी। आखिरकार प्लेटफार्म से उक्त व्यापारी के प्याज हटवाकर खाली करवाया गया। इसके बाद नीलामी कार्य शुरू हुआ।