स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

खुलासा: बस में मिले एक करोड़ रुपए, मालिक कौन, अभी मौन!

Satyendra Porwal

Publish: Sep 16, 2019 23:42 PM | Updated: Sep 16, 2019 23:42 PM

Ranchi

हाई प्रोफाइल मामला: रुपए लूटने वाले आए गिरफ्त में । चार आरोपितों से 35.50 लाख बरामद। बाकी कहां गए। बेनामी मिली नकदी के धणी-धोरी का नहीं चला पता।

(दुमका). आखिर ये क्या राज था कि बस में बनाया विशेष लॉकर, किसी ने रखे एक करोड़ और दूसरे कैसे इसे लूट कर ले गए। कौन है इस साजिश के पीछे। पुलिस के लिए पहेली। विस्तार से रिपोर्ट...
दुमका पुलिस ने एक यात्री बस में सवार यात्रियों से लूटकांड का खुलासा कर लिया है। इस मामले में चार आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तार आरोपियों के पास 35.50 लाख रुपए नकद बरामद किए हैं। लूटकांड में एक करोड़ से अधिक बेनामी संपत्ति लूट ( HAWALA KAROBAR) की बात भी सामने आई है, हालांकि प्राथमिकी में बस लॉकर से सिर्फ 2.36 लाख रुपए लूट की प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी। दुमका पुलिस ने इस हाई प्रोफाइल ( HIGH PROFILE) मामले में गहराई से छानबीन के लिए आईटी और ईडी से सहयोग मांगा है।

भागलपुर से कोलकाता जा रही थी बस
जानकारी के अनुसार 27 अगस्त को मसानजोर के बागनल गांव के निकट भागलपुर से कोलकाता जा रही पगला बाबा बस में लूटपाट को अंजाम दिया गया था। इस मामले में गिरफ्तार आरोपियों से बरामद रुपया हवाला कारोबार से जुड़ा हुआ है। देर रात आधा दर्जन आरोपियों ने बस अगवा कर लूटपाट को अंजाम दिया था। उस समय पुलिस ने 2 लाख 36 हजार रुपए लूट का मामला दर्ज किया था। अनुसंधान में पता चला कि बस में विशेष लॉकर बनाकर करीब एक करोड़ रुपया रखा गया था। सारा रुपया भागलपुर से कोलकाता पहुंचाया जा रहा था। इस बेनामी राशि को हवाला कारोबार से जोड़कर देखा जा रहा है।

एक को पकड़ा तो उगल दिया राज
पुलिस अधीक्षक ने सोमवार को पत्रकारों को बताया कि अनुसंधान के क्रम में तकनीकी साक्ष्य और सूचना के आधार पर पुलिस ने पहले रोशन सिंह से पूछताछ की और अपराध स्वीकारोक्ति के बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया। रोशन की सूचना के अनुसार प्रशांतसिंह को यहां लाकर कड़ाई से पूछताछ की गई, तो उसने कांड में संलिप्ता स्वीकार कर ली।

मुख्य सरगना ने बस चालक से की मिलीभगत
इस कांड का मुख्य सरगना प्रशांतसिंह तथा रॉकी सिंह हैं। इन्होंने बस चालक लक्ष्मण महतो उर्फ चंदन की मिलीभगत से लूटकांड की योजना बनाई। योजना के तहत प्रशांत और रॉकी जमुई तथा मुंगेर क्षेत्र से तीन निजी कारों से यात्री बस का पीछा करते हुए भागलपुर स्टेण्ड पहुंचे और लूटकांड को अंजाम दिया।

लूट के बाद भागे तो जंगल में छिपा गए
बाद में भागते वक्त सभी आरोपियों ने हंसडीहा के आगे महादेवगढ़ के निकट खुद के हथियार तथा लूटे गए मोबाइल जंगल में अलग-अलग स्थानों पर छिपा दिए। गिरफ्तार आरोपियों की पहचान प्रशांत सिंह, रोशन सिंह, संदन उर्फ लक्ष्मण महतो तथा सौरभ उर्फ बंटी को गिरफ्तार किया है।

नकदी, हथियार, लूटे मोबाइल व वाहन जब्त
सभी पूर्व में कई कांडों में जेल जा चुके हैं। आरोपियों की निशानदेही पर 35.50 लाख नकद, दो पिस्तौल, तीन कारतूस, बस यात्रियों से लूटे गए दो मोबाइल, घटना में प्रयुक्त तीन कार भी जब्त की गई हैं।