स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सऊदी अरब में कंपनी ने यूं बनाया था बंधक, ईद पर घर पहुंचा मुफीज तो बहनों ने बांधी राखी

Prateek Saini

Publish: Aug 12, 2019 16:21 PM | Updated: Aug 12, 2019 16:21 PM

Ranchi

Jharkhand Latest News: मुफीज ( Mufiz ) को सऊदी अरब ( Saudi Arabia ) में कंपनी ने बंधक बना लिया था। बहन ने झारखंड सीएम ( Jharkhand CM) रघुवर दास ( Raghubar Das ) से गुहार लगाई तब जाकर ईद ( Eid Ul Adha ) पर वह घर लौटा...

(रांची,रवि सिन्हा): सऊदी अरब ( Saudi Arab ) के रियाद में बंधक बने रांची के रहने वाले मोहम्मद मुफीज की सोमवार को वतन वापसी हो गई है। ईद ( Eid Ul Adha ) के मुबारक मौके पर मुफीज अपने घर लौट आया है। मोहम्मद मुफीज रांची के हिन्दपीढ़ी का रहने वाला है। बड़े-बड़े सपने लेकर करीब ढ़ाई साल पहले वह साउदी अरब कमाने गया था, वहां वह जालसाजों के चंगुल में फंस गया। करीब चार महीने एक कंपनी ने उसे बंधक बना रखा। झारखंड की रघुवर सरकार के प्रयास से वह अपने घर वापस आ सका है।

 

घर आने पर झलकी खुशी

jharkhand latest news

मुफीज की वतन वापसी से उसकी बहन नुसरत और इसरत समेत घर के अन्य सदस्य, रिश्तेदार समेत टोले-मुहल्ले के लोग भी काफी खुश है और राज्य सरकार के प्रति आभार व्यक्त कर रहे है। घर वापसी पर मुफीज की बहनों ने करीब तीन साल बाद रक्षाबंधन के पहले ही राखी बांध कर अपने भाई का स्वागत किया। मुफीज ने पत्रकारों से बातचीत में कहा- मुझे वतन वापसी की उम्मीद नहीं थी, मुख्यमंत्री रघुवर खुदा बन कर आए।


लोगों ने किया स्वागत

इससे पहले मो मुफ़ीज़ सोमवार अहले सुबह 4 बजे दिल्ली पहुंचे। दिल्ली के इन्दिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट ( Indira Gandhi International Airport ) पर उन्हें मुख्यमंत्री के आप्त सचिव के पी बालियान ने रिसीव किया। बाद में वह दिल्ली से एयर एशिया की फ्लाइट से पूर्वाह्न 11 बजे दिल्ली से रांची लौटा, जहां परिजनों और मुहल्ले के लोगों ने उसका जोरदार स्वागत किया।


बहन ने लगाई गुहार तब घर पहुंचा मुफीज

सऊदी अरब के रियाद में फंसे मुफीज की बहन इशरत परवीन ने मुख्यमंत्री से अपने भाई को छुड़ा कर लाने की गुहार लगाई। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने तुरंत अपने प्रधान सचिव को इस बाबत कार्रवाई करने और मुफीज को वापस भारत लाने की पहल करने का निर्देश दिया। नई दिल्ली से स्थानिक आयुक्त एमआर मीणा और मुख्य मंत्री के आप्त सचिव के पी बालियान ने पूरा जोर लगा दिया। इन दोनों ने विदेश मंत्रालय और सऊदी अरब के भारतीय दूतावास से लगातार संपर्क कर उन्हें भारत लाने की कोशिश शुरू कर दी। मुख्यमंत्री को भी पल पल की जानकारी दी जा रही थी।


कंपनी ने चलाया झूठा मुकदमा

बताया गया है कि मोहम्मद मुफ़ीज़ पर नियोक्ता कंपनी ने 12 अप्रैल 2019 से रियाद के कोर्ट में मुकदमा कर रखा था। ऐसे में भारतीय दूतावास ने पहल कर उसे झूठे मुकदमे से निजात दिलाया और इमरजेंसी पासपोर्ट सर्टिफिकेट बनाकर उसे भारत लाने की पहल की।


सीएम ने दी बधाई

रघुवर दास ( jharkhand cm ) ने मो मुफ़ीज़ की सकुशल वापसी पर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि इशरत परवीन बहन की ईद ( EID ) और राखी ( Rakhi ) दोनों ही कामयाब हुए। मुख्यमंत्री ने भारत के विदेश मंत्रालय और सऊदी अरब स्थित भारतीय दूतावास के प्रति आभार और धन्यवाद प्रकट किया है। मुख्यमंत्री ने झारखण्ड भवन के स्थानिक आयुक्त एम आर मीणा, अपने आप्त सचिव के पी बालियान को भी बधाई दी है। मुख्यमंत्री ने राज्य के मुख्यसचिव डॉ डी के तिवारी, अपर मुख्य सचिव गृह विभाग सुखदेव सिंह और अपने प्रधान सचिव डॉ सुनील कुमार वर्णवाल को भी तत्पर कार्रवाई के लिए बधाई दी है।

झारखंड की ताजा ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

यह भी पढ़ें: Watch Video: सावन में 'बाबा बैद्यनाथ धाम' का अद्भुत नजारा, पहले कभी नहीं देखा होगा