स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अध्यक्ष पद की लड़ाई थमी, इन्हें सौंपी गई झारखंड कांग्रेस की कमान

Prateek Saini

Publish: Aug 26, 2019 21:25 PM | Updated: Aug 26, 2019 21:25 PM

Ranchi

Jharkhand Congress President: Indian National Congress की ओर से कई बड़े फैसले लिए गए है। Jharkhand Congress अध्यक्ष Rameshwar Oraon का चयन करने के साथ ही पांच कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए है, इसी के साथ...

(रांची): कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भारतीय पुलिस सेवा के सेवानिवृत्त अधिकारी और पूर्व केंद्रीय मंत्री रामेश्वर उरांव को पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष मनोनीत किया है। कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव के.सी.वेणुगोपाल द्वारा सोमवार को इस संबंध में जारी आदेश में बताया गया है कि पूर्व केंद्रीय मंत्री रामेश्वर उरांव को प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने के साथ ही पांच कार्यकारी अध्यक्षों की भी नियुक्ति की गई है। पूर्व विधायक केशव महतो कमलेश, विधायक इरफान अंसारी, वरिष्ठ नेता राजेश ठाकुर, मानस सिन्हा और संजय पासवान को कार्यकारी अध्यक्ष भी बनाया गया है।


गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव परिणाम के बाद उत्पन्न विवाद के बाद पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. अजय कुमार ने अपने पद से त्यागपत्र दे दिया था और नए अध्यक्ष को लेकर पिछले दिनों पार्टी के वरिष्ठ नेता प्रदीप बलमुचू, सुबोधकांत सहाय, धीरज प्रसाद साहू, फुरकान अंसारी, मनोज कुमार यादव, रामेश्वर उरांव, केएन त्रिपाठी समेत अन्य नेताओं ने नई दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात की थी, जिसके बाद सोनिया गांधी ने सभी नेताओं से विचार-विमर्श के बाद पार्टी की कमान जनजातीय नेता रामेश्वर उरांव को सौंपने का निर्णय लिया। रामेश्वर उरांव राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष भी रह चुके है।

 

कांग्रेस की स्क्रीनिंग कमेटी हुई गठित


कांग्रेस ने आगामी विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखकर छह सदस्यीय स्क्रीनिंग कमेटी का गठन भी किया है। पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव के.सी. वेणुगोपाल ने अधिसूचना में बताया कि झारखंड विधानसभा चुनाव के लिए मंत्री टी.एस. सिंह देव चेयरमैन हांगे। वहीं सांसद के. सुरेश और सचिव सलीम अहमद सदस्य बनाए गए है। वहीं पार्टी के प्रदेश प्रभारी सह महासचिव आरपीएन सिंह, प्रदेश अध्यक्ष रामेश्वर उरांव और विधायक दल के नेता आलमगीर आलम नेता को भी समिति में शामिल किया गया है।

 

स्क्रीनिंग कमेटी के गठन के साथ ही आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस प्रत्याशियों के नाम पर विचार-विमर्श का सिलसिला शुरू हो जाएगा, वहीं आगामी विधानसभा चुनाव में झामुमो समेत अन्य विपक्षी दलों के साथ गठबंधन के मसले पर भी इस समिति की भूमिका अहम होगी।

झारखंड की ताजा ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

यह भी पढ़ें: अनपढ़ साइबर ठग बने 'राजा बाबू', VVIP को यूं फंसाते हैं जाल में, अब नहीं हो रही शादियां