स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बोकारो स्टील के एजीएम की पिटाई, भाजपा कार्यकर्ताओं व विधायक पर मारपीट का आरोप

Brijesh Singh

Publish: Jul 16, 2019 16:36 PM | Updated: Jul 16, 2019 16:36 PM

Ranchi

Jharkhand BJP MLA: झारखंड में बोकारो के भाजपा विधायक पर बोकारो इस्पात ( Bokaro Steel ) के नगर सेवा विभाग के सहायक महाप्रबंधक ( AGM ) अजीत कुमार के साथ मारपीट का आरोप लगा है।

रांची (रवि सिन्हा)। झारखंड के बोकारो ( Bokaro ) जिले में बोकारो इस्पात ( Bokaro Steel ) के नगर सेवा विभाग के सहायक महाप्रबंधक अजीत कुमार के साथ मारपीट की गई। इस घटना में विधायक (MLA) विरंची नारायण ( Birnchi Narayan ) और भाजपा कार्यकर्ताओं पर आरोप लगा है। घायल अजीत कुमार को बोकारो जनरल अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं विधायक ने मारपीट की घटना में अपनी संलिप्तता से इंकार किया है और बताया कि वे विवाद को सुलझाने के लिए मौके पर पहुंचे थे। उन्होंने बोकारो के पुलिस अधीक्षक से भी मुलाकात कर पूरी घटना की जानकारी दी।

 

प्रत्यक्षदर्शियों से मिली जानकारी के अनुसार भाजपा विधायक विरंची नारायण ने पहले अजीत कुमार के साथ मारपीट की। मारपीट के दौरान खुद को बचाने के लिए सहायक महाप्रबंधक जब भागने लगे, तो भाजपा कार्यकर्ताओं और विधायक ने कथित तौर पर दौड़ाकर पिटाई कर दी। इस घटना के बाद बोकारो इस्पात संयंत्र के अधिकारी दहशत में हैं। बताया जा रहा है कि राज्य सरकार की निधि से सेक्टर- 1 में तालाब जीर्णोद्धार का कार्य हो रहा है। बोकारो इस्पात प्रबंधन का कहना है कि तालाब के जीर्णोद्धार के लिए प्रबंधन से अनापत्ति प्रमाण पत्र प्राप्त नहीं किया गया है, जबकि विधायक का कहना था कि तलाब का जीर्णोद्धार जन सुविधा के लिए किया जा रहा है। इस कार्य को एजीएम ने गलत बताया, जिसके बाद विवाद बढ़ा गया और फिर मारपीट की घटना हुई।


इस घटना के बाद बोकारो इस्पात संयंत्र के अधिकारी आक्रोश में हैं। वहीं भाजपा विधायक ने उपायुक्त और पुलिस अधीक्षक से मिलकर एजीएम की शिकायत की। घटना के बाद विधायक विरंची नारायण ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि एजीएम कार्य का विरोध कर रहे थे। इसी दौरान कार्यकर्ताओं से उनका विवाद हो गया। उन्होंने बीच बचाव किया। उन पर लगाया गया मारपीट का आरोप सरासर झूठ है। उन्होंने कहा कि जब प्रशासन की ओर से कार्य कराया जा रहा था, तो बिना प्रशासन की अनुमति लिए एजीएम को मौके पर पहुंचना ही नहीं चाहिए था। एजीएम की ओर से फिलहाल कोई शिकायत दर्ज नहीं कराई गई है।

 

झारखंड की ताजातरीन खबरों के लिए यहां क्लिक करें...