स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सैकड़ों महिलाएं बनी मिट्टी की डॉक्टर, यूं करेंगी खेतों का इलाज, बढ़ेगी उपज

Prateek Saini

Publish: Aug 21, 2019 18:37 PM | Updated: Aug 21, 2019 18:37 PM

Ranchi

How Increase Harvest: किसानों के लिए यह ख़बर बेहद ख़ास है, किसान फसल का उत्पादन कैसे बढ़ा सकते है ( Kaise Ugay Acchi Fasal ) , मिट्टी में क्या कमी है ( Agriculture Techniques ) यह सभी जांच करके यह डॉक्टर बताएंगे...

(रांची,रवि सिन्हा): झारखंड में हर गांव और हर किसान की मिट्टी के लिए भी अब डॉक्टर होंगे। राज्य सरकार ने ऐसी व्यवस्था कर बुधवार को पूरे देश में इतिहास रच दिया। ख़ास बात यह है कि पहली बार झारखण्ड की महिलाएं मिट्टी की डॉक्टर बन रही हैं। इन डॉक्टरों का क्या काम होगा, यह किस तरह काम करेंगी आईए जानते हैं...

इन डॉक्टरों को हर माह होगी 14 हजार की आय

सैकड़ों महिलाएं बनी मिट्टी की डॉक्टर, यूं करेंगी खेतों का इलाज, बढ़ेगी उपज

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने रांची के खेलगांव स्थित टाना भगत स्टेडियम में आयोजित एक समारोह में मिट्टी की डॉक्टरों को सम्मानित किया। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि मिट्टी की डॉक्टर प्रत्येक दिन यदि सिर्फ तीन खेतों की मिट्टी की जांच के काम को पूरा करती है, तो उन्हें महीने में करीब 14 हजार रुपये की आय होगी। उन्होंने कहा कि इससे ग्रामीण अर्थव्यवस्था में तेजी आएगी और महिलाएं आर्थिक रूप से सशक्त हो सकेंगी।

हर पंचायत में प्रयोगशाला

सैकड़ों महिलाएं बनी मिट्टी की डॉक्टर, यूं करेंगी खेतों का इलाज, बढ़ेगी उपज

मुख्यमंत्री ने बताया कि अब राज्य के हर पंचायत में मिट्टी की प्रयोगशाला होगी और मिट्टी के वहां डॉक्टर होंगे जो ग्रामीण किसानों को बताएंगे कि उनकी भूमि का स्वास्थ्य कैसा है। जिस खेत पर वो खेती कर रहे हैं उसकी उपज कैसे बढ़ सकती है। अगर मिट्टी में कोई दोष-रोग उत्पन्न हो गया है या कोई कमी आ गई है उसे भी दूर करने का उपाय किया जाएगा। प्रत्येक पंचायत में दो-दो प्रशिक्षित महिला समूह के सदस्य मिट्टी के डॉक्टर बन रही हैं।


हर खेत का होगा हेल्थ कार्ड

इस मौके पर कृषि विभाग की सचिव पूजा सिंघल ने बताया कि अब हर खेत का भी अपना हेल्थ कार्ड होगा। 17 लाख किसानों को अपने खेत के लिए हेल्थ कार्ड मिल गया है। खेल गांव के टाना भगत स्टेडियम में 5000 से अधिक किसानों को और पूरे राज्य में आज 50 हजार किसानों को उनके खेत का हेल्थ कार्ड का वितरण किया गया। इस मौके पर 350 महिलाओं को मिट्टी के डॉक्टरों के रूप में पहचानपत्र भी दिए गए। साथ ही, 120 मृदा परीक्षक एवं 120 रिएजेंट रिफिल का भी वितरण किया गया।

100 किसान जाएंगे इजरायल

सैकड़ों महिलाएं बनी मिट्टी की डॉक्टर, यूं करेंगी खेतों का इलाज, बढ़ेगी उपज

इसी के साथ सीएम ने यह घोषणा की कि राज्य सरकार अगले महीने 100 और किसानों को उन्नत खेती की तकनीक जानने के लिए इजरायल भेजेगी, इनमें से 50 महिला किसान भी शामिल होंगी।

झारखंड की ताजा ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

यह भी पढ़ें: झारखंड विधानसभा चुनाव: जीतने को BJP की नई रणनीति, मुश्किल में पड़ सकते हैं विपक्षी दल