स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

बाबूलाल मरांडी जनादेश यात्रा पर निकले, तोरपा में बारिश में उमड़ी भीड़

Chandra Prakash sain

Publish: Oct 12, 2019 18:18 PM | Updated: Oct 12, 2019 18:18 PM

Ranchi

भारी बारिश होने के बावजूद बाबूलाल मरांडी को सुनने के लिए हजारों की संख्या में ग्रामीण जनसभा में पहुंचे थे

रांची. झारखंड विकास मोर्चा के केंद्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी शनिवार से जनादेश यात्रा पर निकले हैं। 24 अक्तूबर तक वे राज्य के सभी विधानसभा क्षेत्रों में जाएंगे।

जनादेश यात्रा के क्रम में बाबूलाल मरांडी की पहली सभा खूंटी जिले के तोरपा विधानसभा क्षेत्र के तपकरा में हुई,जहां भारी बारिश में बाबूलाल मरांडी को सुनने के लिए भीड़ उमड़ पड़ी। भारी बारिश होने के बावजूद बाबूलाल मरांडी को सुनने के लिए हजारों की संख्या में ग्रामीण जनसभा में पहुंचे थे, बाबूलाल मरांडी ने भी बारिश में ही छाता लगाकर भाषण दिया। तपकरा के बाद रनिया, सोदे होते हुए यह यात्रा आज देर शाम चाईबासा और सरायकेला पहुंचेगी। कल यानी 13 अक्तूबर को बाबूलाल मरांडी की मुख्यमंत्री रघुवर दास के गृह क्षेत्र जमशेदपुर के बागुनहातू फुटबॉल मैदान में सभा होगी। बागुनहातू की सभा को लेकर झारखंड विकास मोर्चा के केंद्रीय महासचिव अभय कुमार सिंह के नेतृत्व में जमशेदपुर के नेता, कार्यकर्ता जो लगाए हुए हैं। इसी सिलसिले में जेवीएम महानगर के कार्यकर्ताओं ने घर- घर जाकर पर्चे बांटे हैं. जगह- जगह होर्डिंग और बैनर लगाए जा रहे हैं।

 

बाबूलाल मरांडी जनादेश यात्रा पर निकले, तोरपा में बारिश में उमड़ी भीड़

पिछले महीने ही सिंदगोड़ा टाउन हॉल में बाबूलाल मरांडी ने झाविमो के कार्यकर्ताओं को लामबंद करने के लिए सम्मेलन किया था। इसी मौके पर उन्होंने 86 बस्ती के मालिकाना हक का मुद्दा भी उछाला था। 86 बस्ती को मालिकाना हक दिलाए जाने के सवाल पर रघुवर दास राजनीति में शीर्ष स्तर तक पहुंचने में सफल रहे हैं। अब रघुवर दास के विरोधी सवाल कर रहे हैं कि आखिर 86 बस्ती को मालिकाना हक कब मिलेगा।

इधर जनादेश यात्रा का आगाज करते हुए बाबूलाल मरांची ने कहा है कि आज से जनादेश यात्रा पर निकल रहे हैं सभी का साथ और सहयोग मिले इसी उद्देश्य के साथ जनता के बीच जा रहा हूं। हमें आधुनिक झारखंड बनाना है, जो आम जनता के सहयोग से ही मुमकिन है। आधुनिक झारखंड बनाने का उनका सपना इस चुनाव में जरूर पूरा होगा। गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव में हार के बाद कभी और किसी दिन बाबूलाल मरांडी हाथ पर हाथ धरे बैठे नहीं दिखाई पड़ रहे। वे तमाम विपरीत परिस्थितियों में पार्टी में जान फूंकने की कोशिशों में जुटे हैं। पिछले महीने 25 सितंबर को पार्टी के जनादेश समागम में जुड़ी भीड़ से वे उत्साहित हैं।


झाविमो के केंद्रीय सचिव सरोज सिंह ने बताया कि इससे पहले पार्टी प्रमुख ने पंद्रह दिनों का सदस्यता अभियान चलाया था। चुनाव में वक्त कम हैं इसलिए कम मियाद में असरदार मुहिम छेड़ी गई है। सदस्यता अभियान के तहत ढाई लाख सदस्य बनाने के लक्ष्य रखे गए थे, लेकिन पार्टी ने पांच लाख से अधिक लोगों को जोड़ा है। उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव के परिणाम को लेकर पार्टी बेहद आशान्वित हैं।

झारखंड की ताजा खबरों के लिए क्लिक करें