स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Arun Jaitley के निधन की ख़बर मिलते ही BJP ने स्थगित की बड़ी बैठक

Prateek Saini

Publish: Aug 24, 2019 15:42 PM | Updated: Aug 24, 2019 15:42 PM

Ranchi

Arun Jaitley Passed Away: पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली ( Arun Jaitley ) के निधन की ख़बर मिलते ही बीजेपी में शोक की लहर दौड़ गई, झारखंड बीजेपी ( Jharkhand BJP ) ने इस दु:खद ख़बर के बाद...

(रांची): भारतीय जनता पार्टी ( BJP ) के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ( Arun Jaitley ) के निधन की सूचना मिलते ही शनिवार को रांची स्थित प्रदेश भाजपा कोर कमेटी की चल रही बैठक बीच में ही स्थगित कर दी गई। इस बैठक में भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और झारखंड विधानसभा के चुनाव प्रभारी ओम प्रकाश माथुर कई अन्य बैठकों में हिस्सा ले रहे थे।


भाजपा के प्रदेश महामंत्री सांसद सुनील सिंह ने बताया कि बैठक में अरूण जेटली के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए पार्टी की निर्धारित सभी बैठक एवं कार्यक्रमों को स्थगित कर दिया गया है।


यह लोग थे मौजूद

कोर कमेटी की बैठक में विधानसभा प्रभारी ओमप्रकाश माथुर, सह प्रभारी और बिहार सरकार के मंत्री नन्द किशोर यादव, प्रदेश सह प्रभारी रामविचार नेताम, मुख्यमंत्री रघुवर दास, प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा, केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा, प्रदेश संगठन महामंत्री धर्मपाल सिंह , सांसद एवं प्रदेश महामंत्री सुनील सिंह ,दीपक प्रकाश, सांसद सुदर्शन भगत, नीलकंठ सिंह मुंडा और डॉ रविन्द्र कुमार राय हिस्सा ले रहे थे।


विधानसभा चुनाव प्रभारी ओम प्रकाश माथुर आगामी चुनाव को लेकर रांची में कई अन्य बैठकों में भी हिस्सा लेने वाले थे। प्रदेश कोर कमेटी की बैठक के बाद प्रदेश पदाधिकारियों, मोर्चा के प्रदेश अध्यक्षों की बैठक भी होने वाली थी। इसके बाद पार्टी के जिलाध्यक्षों, विधानसभा में गठित कोर कमेटी के संयोजकों और सह संयोजकों की बैठक में भी ओम प्रकाश माथुर हिस्सा लेने वाले थे। इन बैठक में मुख्यमंत्री रघुवर दास, सह चुनाव प्रभारी नंद किशोर यादव, प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा संगठन महामंत्री धर्मपाल समेत अन्य भी हिस्सा लेने वाले थे।

सीएम ने जताया शोक

झारखंड की ताजा ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

यह भी पढ़ें: झारखंड विधानसभा चुनाव: जीतने को BJP की नई रणनीति, मुश्किल में पड़ सकते हैं विपक्षी दल