स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Rampur CRPF Camp Attack: जब पूरा देश डूबा था जश्‍न में, तब आतंकियों ने जवानों पर बरसाईं थीं गोलियां

sharad asthana

Publish: Nov 02, 2019 14:23 PM | Updated: Nov 02, 2019 14:24 PM

Rampur

Highlights

  • 31 December 2007 की रात को CRPF ग्रुप सेंटर पर हुआ था हमला
  • हमले में सात जवान हुए थे शहीद, एक रिक्‍शा चालक की भी हुई थी मौत
  • आतंकी हमले में चार पुलिसकर्मी और दो होमगार्ड भी हुए थे घायल

रामपुर। उत्‍तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के रामपुर (Rampur) में हुए आतंकी हमले के मामले में शुक्रवार को कोर्ट ने छह आरोपियों को दोषी करार दिया है। जबक‍ि दो आरोपियों को बरी कर दिया गया है। शनिवार को इनको सजा सुनाई जाएगी। आइए हम आपको उस हमले के बारे में बताते हैं।

पूरे देश को हिलाकर रख दिया था हमले ने

31 दिसंबर (December) 2007 की रात को जब पूरा देश नए साल के आगमन का जश्‍न मना रहा था तब यह खूनी हमला हुआ था। उस रात रामपुर जनपद में आतंकी हमला हुआ था, जिसने पूरे देश को हिलाकर रख दिया था। 31 दिसंबर की रात को सीआरपीएफ (CRPF) ग्रुप सेंटर पर आतंकी हमला हुआ था। इसमें सीआरपीएफ के सात जवान और एक रिक्‍शा चालक की मौत हुई थी।

यह भी पढ़ें: Rampur CRPF Attack: कोर्ट में सुनवाई पूरी, दो आरोपी बरी, कोर्ट शनिवार को सुनाएगी फैसला

आयुद्ध भंडार तक पहुंचने की थी योजना

आतंकियों ने एके-47, एके-56 और हैंडग्रेनेट से 31 दिसंबर की रात करीब सवा दो बजे सीआरपीएफ के ग्रुप सेंटर पर हमला किया था। जवानों पर गोलियां बरसाते हुए आतंकी सेंटर के अंदर क्वार्टरों तक पहुंच गए थे। उनकी योजना आयुद्ध भंडार तक पहुंचने की थी। लेकिन सीआरपीएफ के जवानों ने इसका मुंहतोड़ जवाब देना शुरू किया। मुठभेड़ करीब चार घंटे तक चली। इसके बाद आतंकी वहां से भाग गए। इस हमले में सीआरपीएफ के सात जवान और एक रिक्‍शा चालक की मौत हो गई थी। इस मामले की रिपोर्ट सिविल लाइंस कोतवाली में दर्ज की गई थी। 1 जनवरी को दरोगा ओम प्रकाश की तहरीर के आधार पर केस दर्ज किया गया था।

[MORE_ADVERTISE1]rampur1.jpg[MORE_ADVERTISE2]

पुलिस ने भी की थी घेरने की कोशिश

हमले के वक्‍त सिविल लाइंस कोतवाली की पुलिस टीम गश्त पर थी। गोलियों की आवाज सुनकर पुलिस ने भी आतंकियों को घेरने का प्रयास किया था। आतंकियों के हमले में दरोगा ओम प्रकाश समेत तीन सिपाही और दो होमगार्ड घायल हाे गए थे। एटीएस और यूपी पुलिस ने मामले की जांच के दौरान आरोपियों को रामपुर और लखनऊ से दबोचा था। उनके पास से एके-47 की मैगजीन, 18 कारतूस, छह हैंड ग्रेनेड, पाकिस्तानी पासपोर्ट और कुछ महत्वपूर्ण जगहों के नक्शे बरामद हुए थे। आरोपियों को लखनऊ और बरेली सेंट्रल जेल में रखा गया था। इसके बाद हर पेशी पर उन्‍हें कड़ी सुरक्षा में रामपुर लाया जाता है।

यह भी पढ़ें: अपराधियों को हवालात की हवा खिलाने वाली इस इंस्‍पेक्‍टर को अब जाना पड़ेगा जेल, 70 लाख रुपये गायब करने का है आरोप

हमले में ये जवान हुए थे शहीद

1. ऋषिकेश राय निवासी गोरखपुर
2. रामजी सरन मिश्रा निवासी दतिया (मध्यप्रदेश)
3. अफजल अहमद निवासी हरिद्वार (उत्तराखंड)
4. मनवीर सिंह निवासी बागपत
5. विकास कुमार निवासी हरिद्वार (उत्तराखंड)
6. देवेंद्र कुमार निवासी ऊधम सिंह नगर (उत्तराखंड)
7. आनंद कुमार निवासी अमरोहा

इनको किया गया था गिरफ्तार

1. इमरान शहजाद निवासी पीओके

2. मो. फारुख निवासी पीओके

3. फहीम अंसारी निवासी मुंबई

4. सबाउद्दीन सबा निवासी मधुबनी (बिहार)

5. मोहम्‍मद कौसर निवासी प्रतापगढ़

6. गुलाब खान निवासी बरेली

7. जंग बहादुर निवासी मुरादाबाद

8. मोहम्मद शरीफ निवासी रामपुर

इनको किया गया बरी

1. गुलाब खान निवासी बरेली

2. मोहम्‍मद कौसर निवासी प्रतापगढ़

[MORE_ADVERTISE3]