स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Azam Khan के खिलाफ बड़ी कार्रवाई, प्रशासन ने जौहर यूनिवर्सिटी की 104 बीघा जमीन कब्जे में ली

Jai Prakash

Publish: Jan 22, 2020 20:41 PM | Updated: Jan 22, 2020 20:41 PM

Rampur

Highlights
-जौहर अली यूनिवर्सिटी की जमीन खरीद की गयी थी शिकायत
-जांच में विक्रय करना गलत पाया गया था
-भाजपा नेता आकाश सक्सेना ने मुख्यमंत्री से की थी शिकायत
-रामपुर प्रशासन द्वारा लगातार आजम खां के खिलाफ जारी है कार्रवाई

रामपुर: सपा नेता और सांसद आजम खां की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रहीं हैं। लगातार उनके खिलाफ स्थानीय प्रशासन द्वारा कार्रवाई जारी है। इसी कड़ी में आज जिला प्रशासन ने जौहर अली यूनिवर्सिटी की 104 बीघा जमीन अपने कब्जे में ले ली है। ये कार्रवाई एसडीएम सदर पीपी तिवारी ने मौके पर टीम के साथ जाकर की। इस कार्रवाई की बाद अभी भी आजम खां की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

आजम खान पर प्रशासन का शिकंजा, 1 करोड़ 37 लाख नहीं चुकाने पर ड्रीम यूनिवर्सिटी के दो भवन सील, देखें वीडियो

भाजपा नेता ने की थी शिकायत

यहां बता दें कि जौहर यूनिवर्सिटी के लिए जौहर ट्रस्ट के नाम पर सींगनखेड़ा के अनुसूचित जाति के लोगों की 104 बीघा जमीन बिना अनुमति के खरीदे जाने की शिकायत भाजपा लघु उद्योग प्रकोष्ठ के क्षेत्रीय संयोजक आकाश सक्सेना ने मुख्यमंत्री से की थी। इस मामले में खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जांच के आदेश दे दिए थे। तत्कालीन जिलाधिकारी ने 2018 में इसकी जांच की थी। जांच में यह सामने आया था कि अनुसूचित जाति के व्यक्ति के नाम पट्टा होने के कारण एक सामान्य श्रेणी के जौहर ट्रस्ट को भूमि का विक्रय नहीं किया जा सकता था। साथ ही भूमि विक्रय करने की अनुमति भी प्राप्त नहीं की गई थी।
अजब प्रेम की गजब कहानी, अमरोहा में शादी की जिद पर अड़ीं दो नर्सें

विक्रय पत्र को शून्य करार दिया

इस प्रकरण में जांच के बाद तत्कालीन जिलाधिकारी ने राजस्व बोर्ड में छह मार्च 2018 को दस वाद दायर किए थे। जिसमें शिकायकर्ता आकाश सक्सेना को दसों वादों की पैरवी हेतु निगरानीकर्ता बनाया गया था। इस मामले में राजस्व परिषद की सदस्य (न्यायिक) भावना श्रीवास्तव ने 14 जनवरी 2020 को अपने निर्णय में विक्रय पत्र को पूर्णत: शून्य करार दिया। साथ ही आदेश दिया यह जमीन राज्य सरकार में निहित मानी जाएगी। राजस्व परिषद के आदेश के बाद बुधवार को दोपहर बाद एसडीएम सदर पीपी तिवारी के नेतृत्व में पहुंची राजस्व विभाग की टीम ने यूनिवर्सिटी में जमीन की पैमाइश करने के बाद 104 बीघा जमीन को अपने कब्जे में ले लिया।
लगातार जारी है कार्रवाई
रामपुर प्रशासन द्वारा लगातार आजम और उनके ड्रीम प्रोजेक्ट जौहर अली यूनिवर्सिटी के खिलाफ कार्रवाई जारी है। जिसमें अभी तक आजम उलझे हुए हैं। एक हफ्ते में दो बार उनके घर पर कोर्ट नोटिस चस्पा किये गए हैं। इससे पहले उनकी मुनादी भी करवाई गयी थी।

[MORE_ADVERTISE1]