स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

4 महीने बाद युवती का शव कब्र से निकाला गया बाहर, देखने के लिए जुटी भीड़

Iftekhar Ahmed

Publish: Dec 10, 2019 13:43 PM | Updated: Dec 10, 2019 13:43 PM

Rampur

  • डीएम के आदेश पर हुई कब्र की खुदाई
  • फरीदाबाद से भगाकर लाया था युवती को
  • पीएम रिपोर्ट से खुलेगा मौत का असली राज

 

रामपुर. रामपुर डीएम आंजनेय कुमार सिंह ने फरीदाबाद की युवती की डेडबॉडी को कब्र से बाहर निकलवाकर पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भिजवाया है। दरअसल, थाना गंज के काशीपुर आंगा निवासी सलीम तीन साल पहले फरीदाबाद की युवती को भगाकर अपने गांव ले आया था। चार माह पहले उसकी मौत के बाद उसके शव को कब्रिस्तान में दफन कर दिया। मृतिका की मां का आरोप है कि उसे दहेज के लिए हत्या कर दी गई। वहीं, आरोपी के परिवार के लोगों का कहना है कि बीमारी के कारण उसकी मौत हुई थी। मृतका की मां की शिकायत पर पुलिस ने महिला के शव को कब्र से निकालकर पोस्ट मार्टम के लिए भेजने के साथ ही आरोपी के परिजनों से मृतका के इलाज संबंधी प्रपत्र मांगे हैं। खबर लिखे जाने तक पुलिस के मुताबिक आरोपी के परिवार ने किसी तरह का इलाज संबंधि कोई भी प्रपत्र पुलिस को नहीं दिए थे।

यह भी पढ़ें: अपरण, गैंगरेप और हत्या की शिकार बेटी के परिजनों को नहीं मिली सुरक्षा, परिवार ने किया पलायन

आरोप है कि मृतिका की मां ने फरीदाबाद और रामपुर पुलिस के अफसर के यहां अपनी बेटी के हत्यारे को सजा दिलाने के लिए कई बार शिकायत की, केलिन उसे अनसुना कर दिया गया। इसके बाद पिछले 23 नबंवर 2019 को एक पत्र सूबे के सीएम को भेजा, जिस पत्र पर अब कार्रवाई शुरू हुई। डीएम ने तत्काल उस पत्र को गंभीरता से लेते हुए मृतिका के शव का पीएम कराने के लिए एक मजिस्ट्रेट को नियुक्त करके भेजा। जहां उन्होंने शव को कब्र से बाहर निकालकर पीएम के लिए जिला अस्पताल भेजा है।

यह भी पढ़ें- दिल्ली अग्नीकांड में जान गंवाने से पहले फोन पर दिल दहला देने वाली बात करने वाले मुशर्रफ के घर मातम

मृतिका की मां कहती है कि आरोपी काशीपुर आंगा थाना गंज का रहने वाला था। वह हमारे पड़ोस में रहकर कुछ काम करता था। उसी दौरान मेरी बेटी को प्रेम जाल में फंसाकर उसे रामपुर ले गया। मेरी बेटी मुझे फोन पर बताती थी कि अब वह दहेज मांगता था। वह परेशान थी कि वह दहेज कहां से दें। अचानक बेटी से जब बात नहीं हुई और नम्बर बन्द आने लगा तब मृतका की मां रामपुर पहुंची तो पता चला कि उसकी मौत हो चुकी है और उसके शव को दफन कर दिया जा चुका है।

सीओ सिटी सत्यजीत गुप्ता ने बताया कि बेटी की मौत को लेकर मृतिका की मां ने अपनी बेटी के हत्त्यारे को सजा दिलाने के लिए पैरवी की। उनके आग्रह पर कब्र से उनकी बेटी की लाश को निकलवा कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। पीएम रिपोर्ट जैसे ही आ जाएगी पुलिस की इन्वेस्टिगेशन टीम को मिलेगी इस केस में आगे
कार्येवाही की जाएगी।

[MORE_ADVERTISE1]