स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अखिलेश यादव के साथ नहीं दिखे आजम खान, सामने आई बड़ी वजह

lokesh verma

Publish: Sep 14, 2019 09:55 AM | Updated: Sep 14, 2019 09:55 AM

Rampur

Highlights

  • ईद के बाद से नजर नहीं आए आजम खान
  • सपा कार्यकर्ता सम्मेलन में भी नहीं पहुंचे आजम खान
  • अखिलेश यादव बोले- बदले की भावना से हो रही कार्रवाई

रामपुर. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) अपने कद्दावर सांसद आजम खान (Azam Khan) के समर्थन में रामपुर पहुंच चुके हैं, लेकिन आजम खान हैं कि कहीं नजर ही नहीं आ रहे हैं। इतना ही नहीं आजम खान रामपुर में अखिलेश यादव के मंच पर भी नजर नहीं आए। इसको लेकर चर्चाओं का दौर शुरू हो गया है। बता दें कि सांसद आजम खान लंबे समय से गायब हैं। स्थानीय लोगों का कहना है कि वह पिछले दो माह में सिर्फ ईद पर ही नजर आए थे। सपा कार्यकर्ता सम्मेलन में अखिलेश यादव भी मौजूद थे, लेकिन स्थानीय सांसद आजम खान ने वहां भी जाना जरूरी नहीं समझा।

बता दें कि समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता आजम खान के खिलाफ रामपुर पुलिस प्रशासन ने अब तक 82 मुकदमे दर्ज किए हैं। इसके साथ ही उनके खिलाफ कोर्ट से समन जारी हो चुका है, लेकिन आजम खान कोर्ट भी नहीं पहुंचे। वहीं सपा कार्यकर्ता सम्मेलन में अखिलेश यादव की मौजूदगी के बावजूद आजम खान ने पहुंचना जरूरी नहीं समझा। अखिलेश यादव ने मंच से योगी सरकार और रामपुर जिला प्रशासन के खिलाफ जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि आजम खान के खिलाफ बदले की भावना से कार्रवाई की जा रही है।

यह भी पढ़ें- भीम आर्मी के राष्ट्रीय प्रवक्ता के घर पुलिस ने लगाया कुर्की का नाेटिस, जानिए क्या है मामला

इस दौरान सांसद आजम खान के बेटे अब्दुल्ला आजम ने कहा कि बहुत से लोगों ने हमारा साथ छोड़ दिया है, लेकिन उसके बावजूद सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव हमारे साथ खड़े हैं। उन्होंने भाजपा सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि वह रिक्शा वालों और बीड़ी वालों को पढ़ने और आगे बढ़ते नहीं देख सकते। उन्होंने कहा कि अब हमें अपने दुश्मनों की पहचान करनी होगी। उन्होंने कहा कि हमने आपके लिए बहुत अच्छा काम किया, लेकिन एक साजिश के कारण आज हमें यहां बैठना पड़ा है।

यह भी पढ़ें- पूर्व सांसद का भाई नाटकीय ढंग से गिरफ्तार, बेटे और भतीजे पुलिस की गिरफ्त से बाहर