स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

CRPF कैंप अटैक केस में फैसले के बाद असदुद्दीन ओवैसी ने उठाए सवाल, मुस्लिमों के साथ भेदभाव का आरोप

Ashutosh Pathak

Publish: Nov 04, 2019 11:38 AM | Updated: Nov 04, 2019 11:46 AM

Rampur

Highlights

  • रामपुर CRPF कैंप अटैक मामला
  • असदुद्दीन ओवैसी ने उठाए सवाल
  • 'टेरर केस में मुस्लिमों के साथ होता है भेदभाव'

रामपुर। रामपुर में करीब बारह साल पहले सीआरपीएफ कैंप पर आतंकी हमले में कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए 6 को सजा सुनाई और दो आरोेपी को बरी कर दिया। जिस पर AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसे ने सवाल खड़े कर दिए हैं। ओवैसी ने आपराधिक न्याय प्रणाली पर सवाल उठाते हुए कहा कि मुस्लिमों के भेदभाव किया जा रहा है।

अपने ट्वीट में ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के प्रमुख ने लिखा कि- टेरर केस में मुस्लिमों को जेल भेज दिया जाता है और सालों बाद सिर्फ रिहाई हाथ लगती है। हम आपराधिक न्याय प्रणाली में प्रणालीगत भेदभाव का अनुभव करते हैं। यहां सिर्फ गुलाब खान के साथ ही दोहरा अन्याय नहीं हुआ, बल्कि रामपुर हमले के पीड़ितों के साथ भी हुआ।

एक दूसरे ट्वीट में उन्होंने लिखा कि, आखिर रामपुर आतंकी हमले के असली गुनहगार कौन हैं? गुलाब खान और उनके परिवार ने 12 साल तक अपमान झेला, उसके लिए क्या गुलाब खान को मुआवजा दिया जाएगा?

आपको बता दें कि रामपुर में सीआरपीएफ कैंप पर आतंकी हमले में कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए चार आतंकियों फांसी की सजा सुनाई है। एक को उम्र कैद तो एक को दस साल की सजा। जबकि दो को बरी कर दिया गया। जिसके बाद सासंद और AIMIM प्रमुख ने सवाल उठाए हैं।

[MORE_ADVERTISE1]