स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

एक्शन में एनकाउंटर मैनः आजम खान के खिलाफ 7 दिन में दर्ज किए 13 मुकदमे, देखें वीडियो-

lokesh verma

Publish: Jul 18, 2019 12:25 PM | Updated: Jul 18, 2019 12:25 PM

Rampur

खबर के मुख्य बिंदु-

  • राजस्व विभाग की जांच के बाद आजम खान और उनके करीबी रिटायर्ड पुलिस अधिकारी आले हसन के खिलाफ दर्ज हो रहे मुकदमे
  • रामपुर SP Dr. Ajay Pal Sharma बोले- किसानों ने लगाए है संगीन आरोप, जांच जारी
  • रामपुर के किसानों की जमीन कब्जाने और Jauhar University कैंपस में शामिल करने का मामला

रामपुर. सपा सांसद आजम खान (Azam Khan) की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही हैं। पिछले सात दिनों से आजम खान और उनके करीबी रहे रिटायर्ड पुलिस अधिकारी आले हसन के खिलाफ थाना अजीमनगर में मुकदमे दर्ज हो रहे हैं। इस सभी मुकदमों में आजम खान पर एक ही आरोप लगाया गया है कि सत्ता में रहते हुए उन्होंने किसानों की जमीनों पर जबरन कब्जा किया है। आरोप है कि जिन किसानों ने आजम खान की बात नहीं मानी उन्हें तत्कालीन सीओ आले हसन से उठवा लिया और उनकी जमीन की रजिस्ट्री बिना पैसे दिए करा ली। सत्ता बदलने के बाद पीड़ित किसानों ने आजम खान के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

गौरतलब हो कि रामपुर सांसद आजम खान और उनके करीबी रिटायर्ड पुलिस ऑफिसर आले हसन के खिलाफ डीएम के आदेश पर एक सप्ताह पहले 26 किसानों ने हलफनामा लगाकर एक एफआईआर दर्ज कराई थी। इसके बाद से अब तक 12 किसान आजम खान और उनके करीबी रिटायर्ट पुलिस अधिकारी के खिलाफ मुकदमा दर्ज करा चुके हैं। इस तरह 7 दिन में उनके खिलाफ कुल 13 मुकदमे दर्ज हो चुके हैं। इस मामले में रामपुर एसपी डाॅ. अजय पाल शर्मा (Dr. Ajay Pal Sharma) का कहना है कि किसानों की तहरीर पर अभी तक 13 मुकदमे दर्ज हुए हैं। उन्होंने बताया कि पुलिस सभी मामलों में जांच कर रही है। ज्यादातर किसानों की एफआईआर राजस्व विभाग की जांच के बाद ही लिखी गई है। आजम खान और आले हसन पर संगीन आरोप हैं, जिनकी जांच जारी है।

यह भी पढ़ें- Sambhal: सिपाहियों की हत्या पर CM Yogi Adityanath ने जताया दुःख, परिजनों को 50-50 लाख रूपए मुआवजे का ऐलान

Azam Khan

आजम खान और रिटायर्ड सीओ पर ये हैं आरोप

बता दें कि समाजवादी पार्टी के शासनकाल में सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव ने मौलाना मोहम्मद जौहर अली विश्वविद्यालय की नींव रखी थी। उसके बाद से ही सपा के कद्दावर नेता आजम खान पर आरोप लगने लगे थे कि उन्होंने सत्ता में रहते हुए तमाम किसानों की जमीन जबरदस्ती यूनिवर्सिटी कैंपस में लेते हुए चारदीवारी करा ली थी। वहीं जिन किसानों ने विरोध किया उनको तत्कालीन पुलिस सीओ आले हसन से उठाकर थाने में बिठा लिया गया और जबरदस्ती राजस्व विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों को बुलाकर उनकी रजिस्ट्री करा ली थी।

यह भी पढ़ें- आजम खान से चुनाव हारने के बाद फिर से रामपुर छोड़ेंगी जया प्रदा!

azam khan

आजम खान के खिलाफ अब क्या कार्यवाही होगी

अब सत्ता बदली है तो आजम खान और उनके करीबी रिटायर्ड पुलिस अधिकारी आले हसन का चिट्ढा खुलने लगा है। देर से ही सही, लेकिन सरकार ने मामले को गंभीरता से लेते हुए अधिकारियों को आदेश दिए हैं कि पीड़ित किसानों के मुकदमे लेकर उनकी जांच पड़ताल करके उनको न्याय दिलाएं। अब यह देखना दिलचस्प होगा कि आजम खान और उनके करीबी रिटायर्ड पुलिस ऑफिसर पर जो आरोप किसान लगा रहे हैं। वह पुलिस की जांच में कितने सही पाए जाते हैं और आजम खान के साथ उनके करीबी पुलिस अधिकारी आले हसन के खिलाफ क्या कार्यवाही होती है।

UP News से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Uttar Pradesh Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..