स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

झारखंड:नशे में धुत भाजयुमो जिलाध्यक्ष ने अपने ही मंडल अध्यक्ष की जमकर पिटाई की

Prateek Saini

Publish: Sep 18, 2018 14:14 PM | Updated: Sep 18, 2018 14:14 PM

Ramgarh

जब जिलाध्यक्ष का मन नहीं भरा तो उसने बीच बचाव करने पहुंचे मंडल अध्यक्ष की मां के साथ भी बदसलूकी की और उनके साथ भी हाथापाई की...

(रांची): अनुशासित पार्टी कही जाने वाली भारतीय जनता पार्टी में आज अनुशासन भी सिर्फ एक जुमला साबित हो रहा है। झारखंड में सरायकेला-खरसांवा जिले के भारतीय जनता युवा मोर्चा के जिला अध्यक्ष मनोरंजन सिंह ने सहयोगियों के साथ मिलकर अपने ही आदित्यपुर मंडल अध्यक्ष किशन प्रधान की जमकर पिटाई कर दी।

 

बचाव करने आई मां से भी की बदसलूकी

घटना के संबंध में मिली जानकारी के अनुसार सोमवार देर रात शराब के नशे में धुत भारतीय जनता युवा मोर्चा जिला अध्यक्ष मनोरंजन सिंह, उसके भाई रौशन सिंह और रौशन के दोस्त सिंटू सिंह ने अपने ही मंडल अध्यक्ष की जमकर पिटाई कर डाली। इतने से ही जब जिलाध्यक्ष का मन नहीं भरा तो उसने बीच बचाव करने पहुंचे मंडल अध्यक्ष की मां के साथ भी बदसलूकी की और उनके साथ भी हाथापाई की। घटना की सूचना मिलते ही गम्हरिया थाना पुलिस मौके पर पहुंची और किसी तरह सभी को समझा कर थाना ले गयी।


पत्रकार पर जोर आजमाइश

इधर शराब के नशे और समर्थकों की मौजूदगी ने मनोरंजन सिंह को और भी उग्र बना दिया। किसी तरह थाने से में उनकी एंज्यूरी बनाई गई और अस्पताल ले जाया गया। इस मामले में दोनों पक्षों की ओर से शिकायत दर्ज करायी गयी है। मनोरंजन के साथियों ने शराब के नशे में धुत मनोरंजन के कारनामों को कैमरे में कैद करते देख पत्रकार को कैमरा चलाने से मना ही नहीं किया बल्कि कैमरे के लैंस के पास अपना हाथ लगा दिया,ताकि उनकी तस्वीर न आ सके।


पीड़ित ने बताया अपना दर्द

भाजयुमो नेता किशन प्रधान
पीड़ित भाजयुमो नेता किशन प्रधान IMAGE CREDIT: सोशल मीडिया

 

इधर, घायल मंडल अध्यक्ष ने बताया कि मनोरंजन सिंह ने उन्हें इसलिए पीटा कि वे भारतीय जनता युवा मोर्चा के पदाधिकारी हैं तो भाजपा के कार्यक्रम में क्यों शिरकत करते हैं। पुलिस मामले की छानबीन में जुट गयी है और भरोसा दिलाया है कि दोषियों के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी। वहीं पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने मामले की छानबीन के बाद अनुशासनहीनता बरतने वाले कार्यकर्त्ताओं के खिलाफ चेतावनी बात कही है।