स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सैलानी फिर से जा सकेंगे पिकनिक पर गोरमघाट

Laxman Singh Rathore

Publish: Aug 19, 2019 13:01 PM | Updated: Aug 19, 2019 13:01 PM

Rajsamand

Tourists will be able to go on a picnic again at goramghat

रेल ट्रेक हुआ साफ, मंगलवार से रेल चलाने की है संभावना
रेल कर्मचारियों ने तीन दिन में युद्ध स्तर पर किया मलबा हटाने का कार्य

प्रमोद भटनागर

देवगढ़. कामलीघाट से फुलाद के बीच गोरमघाट सेक्सन में पिछले दिनों अच्छी बारिश के कारण चट्टानें टूट कर रेल लाइनों पर गिरने से रेल प्रशासन ने यात्रियों की सुरक्षा के मद्देनजर तीन दिन से मावली से मारवाड़ के बीच रेल संचालन बन्द कर रखा है। Tourists will be able to go on a picnic again at goramghatअब मौसम बारिश बंद होने और रेल लाइनें कर दिए जाने से मंगलवार से पुन: रेल संचालन सुचारू रूप होने की संभवना है। Tourists will be able to go on a picnic again at goramghat
कामलीघाट सेक्सन इंजीनियर वीराराम मीणा ने पत्रिका को बताया कि रेल कर्मचारियों द्वारा तीन दिनों से रेल ट्रेक पर गिरे पत्थरंों ओर मलबे को हटाने का कार्य युद्ध स्तर पर किया गया। बताया कि पूरे मार्ग से मलबे को हटा दिया गया है और मौसम सही होने पर मंगलवार को पुन: रेल संचालन को शुरू कर दिया जाएगा। Tourists will be able to go on a picnic again at goramghatवहीं, स्टेशन अधीक्षक रामसहाय मीणा ने बताया कि जिले से बाहर अजमेर, जयपुर सहित अन्य जिलों के सैलानियों को रेल बन्द होने की सूचना नहीं मिलने के कारण वे गोरमघाट जाने के लिए रविवार को भी कामलीघाट स्टेशन पहुंच गए थे। उन्हें यहां आने के बाद रेल मार्ग बन्द होने की जानकारी मिली तो वे निराश होकर लौटे।

रावली टॉडगढ़ अभ्यारण्य में अब तीन झरनों की कल-कल
राजसमंद, पाली व अजमेर जिलों की सीमा में स्थित रावली टॉडगढ़ में अब पर्यटन स्थलों पर तीन झरनों की कल-कल बह रही है। इसमें गोरमघाट और भील बेरी के झरने के बाद अब धार्मिक व प्राकृतिक पर्यटन स्थल गौरीधाम का झरना भी पूरे वेग से बहने लगा है। ऐसे में रेल सेवा बंद होने से गोरमघाट में पर्यटकों की पहुंच नहीं होने के चलते वे अब गौरीधाम और भीलबेरी के पर्यटन स्थल का भ्रमण कर सकते हैं।

 

जलस्तर बढ़ा, हैंडपंप से स्वत: फूट रहे फव्वारे

Tourists will be able to go on a picnic again at goramghat
देवगढ़/भीम. पिछले दिनों में लगातार हुई झमाझम बारिश से क्षेत्र का भूजल स्तर काफी बढ़ गया है। इसके चलते देवगढ़ के कीटों का बाडिय़ा गांव के साथ ही भीम में भी हैण्डपंप से स्वत: जलधारा फूटने लगी है। ऐसे में यहां लोगों को पानी भरने के लिए हैण्डपंप को चलाने की जरूरत ही नहीं पड़ रही। वहीं, ये हैंडपंप लोगों के लिए आकर्षण का केन्द्र बने हुए हैं। Tourists will be able to go on a picnic again at goramghatयहां से गुजरने वाले राहगीर एकाएक हैंडपंप को देखने के लिए रुक जाते हैं।

Tourists will be able to go on a picnic again at goramghat