स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

VIDEO : शौचालय इस्तेमाल की पढ़ाई करेंगे स्वच्छताग्रही, फिर ग्रामीणों को करेंगे पे्ररित

Laxman Singh Rathore

Publish: Jul 18, 2019 13:54 PM | Updated: Jul 18, 2019 13:54 PM

Rajsamand

प्रदेश में राजसमंद का मॉडल के रूप में चयन, एसबीएम एकेडमी का ऑनलाइन कोर्स जारी

swach bharat campaign

 

लक्ष्मणसिंह राठौड़ @ राजसमंद

शौचालय (toilet) बनाने के बाद भी उपयोग नहीं करने वाले लोगों को पे्ररित, प्रोत्साहित करने के लिए अब केन्द्र सरकार स्वच्छताग्रही को विशेष कोर्स करवाएगी। प्रदेश में राजसमंद का मॉडल के रूप में चयन हुआ, जहां कोर्स के बाद स्वच्छताग्रही गांव-ढाणी में जाकर ग्रामीणों को शौचालय उपयोग के लिए मोटिवेट करेंगे। इसके लिए केन्द्रीय जल शक्ति मंत्रालय का एसबीएम एकेडमी से विशेष एमओयू हुआ है। 240 मिनट के मोबाइल ट्रेनिंग कोर्स में ग्रामीणों को जागरुक कर स्वच्छता कायम करने के बेहतर व आसान तरीके बताए जाएंगे। 11 अध्याय का यह कोर्स टोल फ्री नम्बर 1800-120-4411 पर कॉल कर स्वच्छताग्रही प्राप्त कर सकेंगे। कोर्स के बाद परीक्षा होगी, जिसमें 50 फीसदी प्रश्नों के सही जवाब मिलने पर उत्तीर्ण का प्रमाण पत्र ऑनलाइन मिलेगा। फिर प्रशिक्षित स्वच्छताग्रही गांव-ढाणी में जाकर ग्रामीणों को शौचालय बनाने व उसका उपयोग करने के लिए पे्ररित कर स्वच्छता कायम करेंगे।

swach bharat campaign

राजसमंद जिले में 800 स्वच्छताग्रही
207 पंचायतों में Toilets बनाने के बाद उपयोग के लिए ग्रामीणों को मोटिवेट करने के लिए पंचायतीराज विभाग द्वारा 800 स्वच्छताग्रही तैयार किए जा रहे हैं। राजसमंद व रेलमगरा पंचायत समिति के स्वच्छताग्रही को प्रशिक्षण दे दिया, जबकि खमनोर, देवगढ़, भीम, कुंभलगढ़, आमेट पंचायत समिति क्षेत्र के स्वच्छताग्रही को भी इसी सप्ताह प्रशिक्षण दिया जाएगा। फिर वे कभी भी टोल फ्री नम्बर पर कॉल कर कोर्स कर सकेंगे।

कोर्स में यह सीखेंगे स्वच्छताग्रही
- समुदाय आधारित स्वच्छता तकनीक अपनाना
- ट्रिगरिंग की प्रक्रिया, टूल्स के इस्तेमाल, शौचालय निर्माण की तकनीक से ग्रामीणों को अपडेट करना
- घर, गली-मोहल्ले को हमेशा स्वच्छ रखना
- स्वच्छता कायम करने के लिए दैनिक जीवन में जरूरी बदलाव व अच्छी आदतें डालना
- सडक़, सार्वजनिक स्थलों पर स्वच्छता कायम करने के लिए खुद ध्यान रखना और जो कोई हर कहीं कचरा फेंके, उन्हें भी टोकना और रोकना

फिर प्रदेशभर में लागू होगी व्यवस्था
स्वच्छ भारत मिशन, जलशक्ति मंत्रालय व एसबीएम एकेडमी द्वारा प्रथम चरण में राजस्थान, झारखंड, मध्यप्रदेश व उत्तरप्रदेश के चार जिलों का चयन किया। इनमें राजस्थान में राजसमंद का चयन हुआ है, जहां दो ब्लॉक के स्वच्छताग्रही प्रशिक्षित भी हो चुके हैं। उसके बाद राजस्थान के अन्य जिलों के साथ ही देशभर के अन्य राज्यों में भी स्वच्छताग्रहियों को कोर्स करवाएगा जाएगा।

स्वच्छता कायम करना ध्येय
गांवों में शौचालय का उपयोग व स्वच्छता कायम करने के लिए स्वच्छताग्रहियों को विशेष कोर्स करवाया जाएगा। प्रदेश में राजसमंद का चयन हुआ। स्वच्छताग्रही को प्रशिक्षित कर ग्रामीणों को बेहतर व आसान तरीके से स्वच्छता के लिए मोटिवेट करेंगे, ताकि स्वच्छता कायम हो सकें।
नीमिषा गुप्ता, मुख्य कार्यकारी अधिकारी जिला परिषद राजसमंद